नहीं हो पाई प्रियंका की पहली PC, शोकसभा में बदली भड़ाना की घर वापसी

लखनऊ। हरियाणा और पश्चिम यूपी में गुर्जर समुदाय में मजबूत पकड़ रखने वाले अवतार सिंह भड़ाना और पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री रामलाल राही के कांग्रेस पार्टी में शामिल होने की प्रेसवार्ता शोकसभा में तब्दील हो गई. जहां कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने वहां सिर्फ इतना बताया कि वरिष्ठ नेता अवतार सिंह भड़ाना और पूर्व मंत्री रामलाल राही पार्टी में शामिल हो रहे हैं. और उसके बाद उन्होंने पुलवामा हमले की शहीदों को श्रृद्धांजलि देने के लिए दो मिनट का मौन रखवा दिया.

दरअसल, गुरुवार को कई नेताओं की कांग्रेस में एंट्री को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा लखनऊ में प्रेसवार्ता करने वाली थीं. पहले पीसी का वक्त 4 बजे रखा गया था, जिसे गुरुवार को बदलकर सात बजे कर दिया गया था. लेकिन देर शाम प्रियंका मीडिया के सामने आईं और उन्होंने केवल इतना कहा कि पुलवामा हमले के बाद किसी भी तरह की राजनीतिक चर्चा करना ठीक नहीं रहेगा. उन्होंने बताया कि अवतार सिंह भड़ाना और रामलाल राही पार्टी में शामिल हो रहे हैं. इसके बाद उन्होंने सभी को उरी हमले के शहीदों के लिए मौन रखने के लिए कहा.

आपको बता दें कि भड़ाना बीजेपी आलाकमान से फरीदाबाद लोकसभा क्षेत्र के लिए टिकट की मांग कर रहे थे. लेकिन टिकट बंटवारे से पहले कई दावेदार उभरकर सामने आ गए. जिसकी वजह से उनकी राह मुश्किल हो गई. फरीदाबाद से मौजूदा सांसद और मोदी सरकार में राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर पहले ही दावेदारी कर चुके हैं.

लेकिन इसके बावजूद कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थामने वाले वरिष्ठ नेता अवतार सिंह भड़ाना भी फरीदाबाद से चुनाव लड़ने का मन बना रहे हैं. हालांकि पहले वो यही कहते रहे कि भाजपा आलाकमान जो फैसला लेगा, वो उन्हें मंजूर होगा. लेकिन ऐन मौके पर उन्होंने घर वापसी का ऐलान कर दिया और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस पार्टी का दामन थाम लिया.

काबिल-ए-गौर है कि लोकसभा चुनाव 2014 में फरीदाबाद के वर्तमान सांसद कृष्णपाल गुर्जर ने अवतार सिंह भड़ाना को साढ़े 4.60 लाख मतों से हराया था. इस हार के बाद अवतार सिंह भड़ाना इंडियन नेशनल लोकदल (INLD) में शामिल हो गए थे और फिर 2015 में उन्होंने बीजेपी का दामन थाम लिया था. उसके बाद भड़ाना को 2017 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में मीरापुर सीट से जीत हासिल की थी.

गौरतलब है कि अवतार सिंह भड़ाना 1991 में पहली बार कांग्रेस की टिकट पर फरीदाबाद लोकसभा क्षेत्र से सांसद चुने गए थे. उसके बाद 1999 के लोकसभा चुनाव में अवतार सिंह भड़ाना को कांग्रेस ने मेरठ लोकसभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया और उन्होंने जीत दर्ज की थी. एक बार फिर 2004 में अवतार सिंह भड़ाना फरीदाबाद से कांग्रेस के टिकट पर मैदान में उतरे और जीत हासिल की. 2009 के लोकसभा चुनाव में अवतार सिंह ने फरीदाबाद से जीत दर्ज की. इस तरह से अवतार सिंह भड़ाना 3 बार फरीदाबाद और एक बार मेरठ से सांसद रहे.