क्या पाकिस्तान के खिलाफ क्रिकेट विश्व कप में भी नहीं खेलेगा भारत?

पुलवामा आतंकी हमले के बाद देश भर में पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा है. गुरुवार को जम्मू कश्मीर में हुए इस आतंकी हमले में CRPF के 40 जवान शहीद हो गए थे. भारत ने हमले के लिए पाकिस्तान में बैठे आतंकी संगठनों के आकाओं को जिम्मेदार ठहराया और कहा है कि कूटनीतिक तौर पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने की प्रक्रिया और तेज की जाएगी. यहां तक की हमले के बाद हुई CCS की बैठक में पाकिस्तान को मिला सबसे पसंदीदा देश (MFN) का दर्जा भारत ने वापस ले लिया है.

भारत और पाकिस्तान की बीच वार्ता पहले से बंद है. इस मामले में भारत का रुख साफ है कि आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चलाई जा सकती. भारत और पाकिस्तान साल 2012 से कोई द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज नहीं खेल रहे हैं. साथ ही भारत ने करीब एक दशक से पाकिस्तान में जाकर कोई भी क्रिकेट सीरीज नहीं खेली है. आईपीएल में तो पहले ही पाक खिलाड़ियों की एंट्री पर बैन लगा हुआ है. ऐसे में पुलवामा हमले के बाद अब मांग उठ रही है कि भारतीय क्रिकेट टीम ICC के टूर्नामेंट में भी पाकिस्तान के साथ न खेले. लेकिन क्या वाकई ऐसा मुमकिन है.

नहीं कर सकता इनकार…

इस सवाल के जवाब में खेल पत्रकार विधांशु कुमार का कहना है कि ऐसे पहले कभी नहीं हुआ है और शायद आगे भी ऐसा कर पाना मुश्किल होगा. उन्होंने बताया कि विश्व कप जैसे टूर्नामेंट में आपको हर देश के खिलाफ खेलना पड़ सकता है और यह फिक्सर पर निर्भर करेगा. किसी टीम के खिलाफ खेलने से आप इनकार नहीं कर सकते, अगर कोई देश ऐसा करता है तो उसे इसका नुकसान उठाना पड़ेगा.

क्रिकेट विश्व कप इसी साल होने वाला है ऐसे में क्या भारत इस ICC टूर्नामेंट में पाकिस्तान के खिलाफ मैच खेलने से मना कर सकता है? इस पर विधांशु कुमार ने कहा कि अगर भारत नहीं खेलना चाहता तो उसे वह मैच गंवाना पड़ेगा और सीधे-सीधे पाकिस्तानी क्रिकेट टीम को अंक मिल जाएंगे, जिसका असर अंक तालिका और टूर्नामेंट में भारत की हार जीत पर पड़ेगा. वह आगे कहते हैं कि इससे अलग भारतीय क्रिकेट टीम पर ऐसा करने के लिए जुर्माना भी लगाया जा सकता है और आगे बढ़कर टीम पर बैन की तलवार भी लटक सकती है.

ओलंपिक में क्या होगा?

क्रिकेट के अलावा क्या कॉमनवेल्थ और ओलंपिक जैसी वैश्विक खेल स्पर्धाओं में भारतीय खिलाड़ी पाकिस्तान के खिलाफ खेलने से इनकार कर सकते हैं. इस सवाल पर विधांशु कुमार कहते हैं कि वहां तो अंकों का खेल है, अगर आप नहीं खेलेंगे तो आपको हारा हुआ मान लिया जाएगा. किसी खिलाड़ी के चोटिल होने पर विपक्षी खिलाड़ी को बगैर खेले ही अंक दे ही दिए जाते हैं. इससे उस इवेंट में न खेलने वाले खिलाड़ी के नतीजे पर असर पड़ता है.

भारत और पाकिस्तान के बीच रिश्तों में जब भी तल्खियां बढ़ीं हैं उन्हें क्रिकेट और दूसरे मंचों की जरिए मजबूती देने की कोशिश भी हुई है. लेकिन बीते कुछ साल में दोनों मुल्कों के बीच संबंध लगातार बिगड़े हैं. ऐसे में अगर भारत किसी ICC टूर्नामेंट में या फिर ओलंपिक जैसी प्रतिस्पर्धाओं में पाकिस्तान के खिलाफ खेलने से इनकार करता है तो भारत को उस खेल में इसका नतीजा भुगतना ही पड़ेगा.