गांधीनगर में वोट डाल PM मोदी बोले- आतंक की IED से पावरफुल है लोकतंत्र की VID

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 के तीसरे चरण के लिए देश की 117 सीटों पर आज मतदान हो रहा है. आज की वोटिंग में सियासत के कई सितारे अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर रहे हैं. इन वीआईपी सितारों की लिस्ट में टॉप पर हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज गांधीनगर के रानिप पोलिंग बूथ पर अपना वोट डाला. प्रधानमंत्री खुली जीप में सवार होकर पोलिंग बूथ तक वोट डालने पहुंचे जहां बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने उनका स्वागत किया.

वोट डालने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज पूरे देश में तीसरे चरण का मतदान हो रहा है, मेरा सौभाग्य है कि मुझे भी आज मेरा कर्तव्य निभाने का मौका मिला.

प्रधानमंत्री ने कहा कि ये मेरे लिए गौरवपूर्ण पल है कि मेरे गृह राज्य गुजरात में वोट दिया, जैसे कुंभ में स्नान कर आनंद मिलता है वैसे ही वोट डालकर आनंद मिलता है. PM मोदी बोले कि पहली बार जो वोट दे रहे हैं ये सदी उनकी ही सदी है, इसलिए नए मतदाताओं को वह विशेष आग्रह करेंगे कि वे सभी 100 फीसदी मतदान करें.

PM मोदी बोले कि एक तरफ आतंकवाद का शस्त्र IED होता है तो लोकतंत्र की ताकत वोटर ID (VID) होता है.

यहां वोट डालने से पहले प्रधानमंत्री ने अमित शाह के परिवार से मुलाकात की, इस दौरान उन्होंने जय शाह की बेटी को गोद में भी खिलाया. मतदान डालने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाहर आकर मतदान वाली उंगली दिखाई और पैदल ही लोगों से मिलने पहुंच गए.

मतदान से पहले उन्होंने अपनी मां हीराबेन का आशीर्वाद लिया, पीएम अपनी मां से मिलने घर पहुंचे थे. इस दौरान मां ने उन्हें मीठा खिलाया और आशीर्वाद के तौर पर चुनरी भी दी. इसके अलावा अमित शाह, अरुण जेटली, मुख्यमंत्री विजय रुपाणी पूर्व सीएम केशुभाई पटेल, कांग्रेस नेता अहमद पटेल भी आज अपना वोट गुजरात में डालेंगे.

आज के मतदान में देश-दुनिया की मीडिया की निगाहें उस बूथ पर लगी जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना वोट डाला. पिछली बार जब प्रधानमंत्री ने वोट डाला था तब उन्होंने बूथ के पास उन्होंने सेल्फी ली थी, जिसपर काफी विवाद हुआ था.

पिछली बार हुआ था विवाद

हालांकि 2014 में नरेंद्र मोदी की ये सेल्फी विवादों में आ गई थी. विवाद बढ़ने पर चुनाव आयोग ने इस मामले में एफआईआर भी दर्ज कराई थी. 30 अप्रैल 2014 को नरेंद्र मोदी ने वोट डालने के बाद उंगली में स्याही का निशान और बीजेपी के चुनाव चिन्ह के बैज कमल को दिखाते हुए सेल्फी ली थी और इसे ट्विटर पर पोस्ट किया था. गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस तस्वीर को ट्विटर पर पोस्ट करते हुए लिखा था, “सेल्फी आ गई है, आप भी अपनी सेल्फी डालिए और देखिए क्या होता है.”

नरेंद्र मोदी की इस सेल्फी पर विवाद बढ़ा तो चुनाव आयोग ने एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए. मोदी पर जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 126 (1) ए और 126 (1) बी और आईपीसी की धारा 188 के तहत केस दर्ज किया गया था.

2014 में पीएम ने गांधीनगर के निशान सेकेंड्री स्कूल में अपना वोट डाला था.  वोट डालने के बाद उनकी कार एक गार्डेन के पास गई तो पोलिंग बूथ से अलग थी. यहां पर उन्होंने सेल्फी ली और कमल के निशान को दिखाते हुए मीडिया से बात की थी. इस मामले में नरेंद्र मोदी के खिलाफ कोई आरोप साबित नहीं हुआ था.