ISI का भारत में अशांति फैलाने का नया प्लान, खूंखार तालिबानी आतंकियों को लेकर बनाया नया संगठन

नई दिल्ली। खुफिया एजेंसियों से मिली जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी जैश ए मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) और मौलाना मसूद अजहर के खिलाफ लगे बैन से परेशान है. एक रिपोर्ट के मुताबिक अफगानिस्तान से सटे अफगानिस्तान और पाकिस्तान सीमा के नजदीक पाकिस्तान जैश ए मुतकी (Jaish-E-Mutqi) नाम से एक नये आतंकी गुट को बनाने में लगा हुआ है. रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान ने इससे जुड़े आतंकियों की ट्रेनिंग के लिए मीरमशाह शहर में टेरर कैंप्स बनाने में लगा है. मीरमशाह पाकिस्तान के नार्थ वजीरस्तान का हिस्सा है और ये अफगानिस्तान से महज 60 किलोमीटर की दूरी पर है.

तालिबानियों को भारत के खिलाफ उकसा रहा है ISI
केंद्रीय सुरक्षा में तैनात एक अधिकारी के मुताबिक पाकिस्तान जैश ए मुतकी में तालिबानी आतंकियों को भी शामिल कर रहा है. जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान लंबे समय से तालाबानी लड़ाकों को भारत में हमले के लिए तैयार करने में लगा हुआ है. अफगानिस्तान में नाटो फोर्सज की वापसी के चलते तमाम तालिबानी आतंकियों को पाकिस्तान की आईएसआई भारत पर हमले के लिए राजी करने में लगी हुई है.

तालाबानी आतंकियों का गढ़ है मीरमशाह
जैश ए मोहम्मद और उसके सरगना मसूद अजहर पर अंतराष्ट्रीय बैन के चलते पाकिस्तान पर इन गुटों के खिलाफ कारवाई करने का दवाब बढ़ता जा रहा है. यही वजह है कि पाकिस्तान जैश ए मुतकी नाम के इस नये टेरर गुट को बनाने में लगा हुआ है. मीरमशाह को तालाबानी आतंकियों का गढ़ माना जाता है. खुफिया एजेंसियां जैश ए मुतकी नाम के इस नये गुट पर लगातार नजर बनाये हुई है.

ISI ने अफगानिस्तान में की गुप्त बैठक
केंद्रीय ख़ुफ़िया एजेंसी ने गृह मंत्रायल को भेजे ऐसे ही एक रिपोर्ट में कहा था कि पाकिस्तान की आइएसआई भारत में बड़े फिदायीन हमले कराने के लिए जैश और ISIS के आतंकियों को करीब ला रही है. रिपोर्ट के मुताबिक आइएसआई ने कुछ दिनों पहले अफ़ग़ानिस्तान में जैश और ISIS के आतंकियों के बीच गुप्त बैठक कराई है. सिर्फ यही नहीं पाकिस्तान की आइएसआई जैश और तालिबान को भी एक साथ लाने की तैयारी में पिछले कई महीनो से लगी हुई है, जिससे कश्मीर में पुलवामा जैसे और हमले कराये जा सके.

रिपोर्ट के मुताबिक बालाकोट में भारतीय वायु सेना की तरफ से किये गये एयर स्ट्राइक के बाद एक बार फिर से जैश ए मोहम्मद चीफ अजहर मसूद सक्रिय हो गया है. खुफिया एजेंसियों की एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले दिनों अजहर मसूद ने जैश आतंकियों के साथ बैठक कर भारत पर पुलवामा जैसे एक और बड़े आतंकी हमले के लिए तैयार रहने को कहा है. अजहर मसूद ने मीटिंग के दौरान ये भी कहा कि वो पिछले 17 सालों में कभी न तो बीमार हुआ और न ही वो कभी अस्पताल में भर्ती हुआ है.

शाह कुरैशी ने फैलाया था भ्रम
मसूद अजहर ने ये भी कहा है कि उसके स्वास्थ के बारे में गलत खबरें फैलाई जा रही है. हम आपको बता दें कि बालाकोट में जैश के कैंप पर हुए एयर स्ट्राइक के बार पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मुहम्मद कुरैशी ने एक विदेशी चैनल को दिये इंटरव्यू में कहा था कि अजहर मसूद को किडनी की गंभीर बिमारी है और उसका स्वास्थ्य काफी खराब है. शाह कुरैशी ने कहा था कि भारत जिस तरह से मसूद अजहर पर भारत पर हमले के आरोप लगा रहा है वो झूठे हैं.

अंतरराष्ट्रीय दबाव का पाक पर कोई असर नहीं
खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक अजहर मसूद ने पिछले दिनों बहावलपुर में जैश के कई बड़े आतंकियों के साथ बैठक की है और फिदाईन हमलों के लिए जैश की तैयारियों का जायजा लिया है. यही नहीं जैश के बहावलपुर कैंप में मीटिंग के दौरान मसूद ने भारत पर पुलवामा जैसे और बड़े आतंकी हमले के लिए तैयार रहने को कहा है. जाहिर है कि दुनिया भर से पाकिस्तान पर पड़ने वाले अंतरराष्ट्रीय दवाब का कुछ खास असर पाकिस्तान पर होता नहीं दिख रहा ह.

केंद्रीय सुरक्षा में तैनात एक अधिकारी के मुताबिक, ‘बालाकोट में जैश के कैंप पर हुए एयर स्ट्राइक के बाद से जैश ए मुहम्मद के नेटवर्क पर हम लगातार नज़र रखे हुए हैं. हम ये भी देख रहे हैं कि जब से इस ग्रुप पर बैन लगा है तबसे पाकिस्तान ने जैश के खिलाफ क्या कारवाई की है.’