लाहौर में सूफी दरगाह के नजदीक धमाका, 5 पुलिसकर्मियों समेत 9 की मौत

इस्लामाबाद।  पाकिस्तान के लाहौर में बुधवार सुबह सूफी दरगाह दाता दरबार के नजदीक धमाका हुआ। इसमें 5 पुलिसकर्मियों समेत 9 लोगों की मौत हुई। करीब 26 लोग घायल हुए हैं। इनमें आठ की हालत गंभीर है। पुलिस के मुताबिक, धमाका दरगाह की सुरक्षा में लगी पुलिस जीप को निशाना बनाकर किया गया। पाकिस्तान स्थित तालिबान ने हमले की जिम्मेदारी ली है। प्रधानमंत्री इमरान खान ने हमले में मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना जताई।

पुलिस फिलहाल इसे आत्मघाती हमला मानकर जांच में जुटी है। लाहौर के पुलिस चीफ गजनफर अली ने बताया कि धमाके के वक्त दरगाह के अंदर और बाहर काफी लोग मौजूद थे। उन्होंने बताया कि मृतकों की संख्या अभी बढ़ सकती है क्योंकि घायलों में ज्यादातर की हालत गंभीर है। पंजाब के मुख्यमंत्री उस्मान बुजदार ने प्रांत के इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस को घटना की जांच के निर्देश दिए हैं।

दरगाहों को निशाना बना रहे आतंकी

2010 में इसी दाता दरबार दरगाह में दो आत्मघाती हमलावरों ने खुद को उड़ा लिया था। तब हमले में करीब 40 लोगों की मौत हुई थी। इसके बाद से ही दरगाह की सुरक्षा के लिए वहां पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया। 2016 में खुजदार शहर की दरगाह को भी आतंकियों ने निशाना बनाया था। इसमें 50 की मौत हुई थी और 102 घायल हुए थे।

क्वेटा में पिछले महीने हुआ था धमाका

पिछले महीने बलूचिस्तान प्रांत के क्वेटा में शिया हजरा समुदाय को निशाना बनाकर किए गए आत्मघाती हमले में 21 लोगों की मौत हो गई थी। धमाके के वक्त बाजार में भारी भीड़ थी। ब्लास्ट में करीब 50 लोग घायल हुए थे।