गंभीर का वार- केजरीवाल जैसे नेताओं की वजह से राजनीति में नहीं आते अच्छे लोग

नई दिल्ली। पांच चरणों के बाद लोकसभा चुनाव की लड़ाई अब राजधानी दिल्ली तक आ पहुंची है. दिल्ली में मतदान से पहले आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के बीच जंग छिड़ गई है. AAP नेता और पूर्वी दिल्ली से लोकसभा प्रत्याशी आतिशी ने गुरुवार को खिलाड़ी से नेता बने गौतम गंभीर पर उनके खिलाफ अभद्र पर्चे बांटने का आरोप लगाया. आतिशी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में रोते हुए गंभीर के खिलाफ मोर्चा खोला, तो गौतम ने भी पलटवार किया.

शुक्रवार सुबह भी गौतम ने अरविंद केजरीवाल पर पलटवार किया. गौतम गंभीर ने कहा कि आज अच्छे लोग राजनीति में नहीं आना चाहते हैं, क्योंकि वह अरविंद केजरीवाल जैसे लोगों के सामने खड़े नहीं होना चाहते हैं. केजरीवाल लगातार संक्रीण मानसिकता की राजनीति को बढ़ावा दे रहे हैं.

उन्होंने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और आतिशी पर मानहानि का मुकदमा कर दिया है. ये पूरा मामला क्या है और आखिर किस मुद्दे पर दोनों पार्टियों में जंग छिड़ी हुई है, आइए समझते हैं…

आतिशी ने क्या आरोप लगाए…

गुरुवार को जब दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के साथ आतिशी मीडिया से बात करने आईं तो फफक-फफक कर रोने लगीं. आतिशी का आरोप था कि गौतम गंभीर और भारतीय जनता पार्टी ने पूर्वी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र में कुछ ऐसे पर्चे बंटवाएं हैं, जिनमें उनके खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग किया गया है.

आम आदमी पार्टी के अनुसार इस पर्चे में लिखा है कि आतिशी ने आंध्र प्रदेश में प्राइमरी स्कूल के लिए काम किया. प्राइमरी स्कूल के लिए काम करने वाला शख्स शिक्षा नीति कैसे तैयार कर सकता है. इसके अलावा भी अन्य कई बातों को इस पर्चे में लिखा गया है, जिसपर आम आदमी पार्टी ने आपत्ति दर्ज कराई है.

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया समेत पूरी आम आदमी पार्टी ने गौतम गंभीर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. सिर्फ इतना ही नहीं, AAP की तरफ से सोशल मीडिया पर भी आतिशी के समर्थन में और गौतम गंभीर के खिलाफ कैंपेन चलाया गया.

गौतम गंभीर ने क्या दिया जवाब…

आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया तो बीजेपी के पूर्वी दिल्ली से उम्मीदवार गौतम गंभीर भड़क गए. उन्होंने कहा कि अगर आतिशी ने आरोप को सही साबित कर दिया जाए तो वह अपना नामांकन वापस ले लेंगे और चुनाव मैदान से हट जाएंगे. उन्होंने चैलेंज दिया कि अगर यह साबित हुआ कि मैंने यह किया है तो मैं अभी अपनी उम्मीदवारी वापस ले लूंगा. अगर नहीं तो क्या आप राजनीति छोड़ेंगे?

गौतम गंभीर ने कहा कि वह राजनीति में कुछ अच्छा करने के लिए आए हैं, ना कि इस तरह के हथकंडों का इस्तेमाल करने के लिए आए हैं. ना सिर्फ पलटवार बल्कि गौतम गंभीर ने अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और आतिशी के खिलाफ मानहानि का केस भी कर दिया है और माफी मांगने को कहा है.

बीजेपी उम्मीदवार ने कहा कि उन्हें शर्म है कि उनके राज्य का मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जैसा है, जो एक चुनाव जीतने के लिए इस हद तक जा सकता है. गौतम गंभीर के समर्थन में उनकी पार्टी पूरी तरह से साथ आ गई है, बीजेपी भी लगातार AAP पर हमलावर है.

मनीष सिसोदिया का AAP पर पलटवार

दिल्ली के दंगल पर मनीष सिसोदिया ने कहा कि वो लोग हम पर ही मानहानि का मुकदमा करवा रहे हैं, यह तो उल्टा चोर कोतवाल को डांट रहा है. उन्होंने कहा कि जिस तरह की हरकत उन्होंने की है उससे हमको उनके ऊपर मानहानि का मुकदमा करना है, हम नोटिस दे रहे हैं.

क्या हुई कार्रवाई?

आप उम्मीदवार आतिशी के बारे में ‘‘आपत्तिजनक टिप्पणी’’ वाले पर्चे बांटने के सिलसिले में दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी करके पूछा है कि क्या उसने इस संबंध में कोई प्राथमिकी दर्ज की है.

DCW ने कहा, ‘‘पर्चे में आतिशी के साथ उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की मां के खिलाफ शर्मनाक, अपमानजनक और यौन प्रेरित टिप्पणी हैं. यह कृत्य एक महिला उम्मीदवार के चरित्र और प्रतिष्ठा के विरूद्ध एक गिरी हुई हरकत और स्पष्ट रूप से एक महिला की गरिमा को कलंकित करने वाला है.’’

आपको बता दें कि पूर्वी दिल्ली सीट से आतिशी का मुकाबला भाजपा के गौतम गंभीर और कांग्रेस के अरविंदर सिंह लवली से है. राजधानी दिल्ली में 12 मई को सभी सातों सीटों पर वोट डाले जाने हैं.