IPL 2019 में बरसे करोड़ों रुपये, 11 सालों 300 फीसदी बढ़ी प्राइज मनी

Indian Premier League 2019 Mumbai Indians vs Chennai Super Kings MI vs CSK: इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) को दुनिया की सबसे महंगी क्रिकेट लीग माना जाता है। आईपीएल के 12वें सीजन के फाइनल मैच के बाद प्राइज मनी के तौर पर करोड़ों रुपये की मानो बरसात सी हुई है। सबसे रोचक बात ये है कि आईपीएल के पहले सीजन से लेकर आईपीएल के 12वें सीजन तक प्राइज मनी की कुल राशि में 300 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। पहले जो कुल प्राइज मनी थी, अब वो सिर्फ चैंपियन टीम को मिलती है। चलिए एक नजर डालते हैं, आईपीएल की प्राइज मनी में आए बदलाव पर और साथ ही इस साल किसे कितनी प्राइज मनी मिलीः

इस साल प्राइज मनी के नाम पर कुल 55 करोड़ रुपये दिए गए हैं। जिसमें से 20 करोड़ रुपये विजेता टीम मुंबई इंडियंस के खाते में आए हैं। पिछले साल कुल प्राइज मनी 50 करोड़ रुपये थी, जो इस बार बढ़कर 55 करोड़ रुपये हो गई है।

अवॉर्ड प्राइज मनी (रुपये में) किसे मिला
फरफेक्ट कैच ऑफ द सीजन 10 लाख कीरन पोलार्ड
स्टाइलिश प्लेयर ऑफ द सीजन 10 लाख केएल राहुल
गेम चेंजर ऑफ द सीजन 10 लाख राहुल चाहर
इमर्जिंग प्लेयर ऑफ द सीजन 10 लाख शुभमन गिल
पर्पल कैप (सबसे ज्यादा विकेट) 10 लाख इमरान ताहिर
ऑरेंज कैप (सबसे ज्यादा रन) 10 लाख डेविड वॉर्नर
मोस्ट वैल्यूएबल प्लेयर ऑफ द सीजन 10 लाख आंद्रे रसेल
उप-विजेता 12.5 करोड़ चेन्नई सुपर किंग्स
विजेता 20 करोड़ मुंबई इंडियंस
सुपर स्ट्राइकर ऑफ द सीजन कार और ट्रॉफी आंद्रे रसेल
फेयर प्ले अवॉर्ड ट्रॉफी सनराइजर्स हैदराबाद
फास्टेस्ट फिफ्टी 1 लाख हार्दिक पांड्या
बेस्ट ग्राउंड (7+ मैच के लिए) 50 लाख हैदराबाद
बेस्ट ग्राउंड (7 से कम मैच के लिए) 25 लाख पंजाब

इसके अलावा फाइनल मैच की प्राइज मनी कुछ इस तरह रहीः

अवॉर्ड प्राइज मनी (रुपये में) किसे मिला
मैन ऑफ द मैच 1 लाख जसप्रीत बुमराह
सुपर स्ट्राइकर ऑफ द मैच 1 लाख फैफ डुप्लेसी
स्टाइलिश प्लेयर ऑफ द मैच 1 लाख कीरन पोलार्ड
गेम चेंजर ऑफ द मैच 1 लाख राहुल चाहर

2008 में कुल प्राइज मनी 20 करोड़ रुपये थी, जिसमें से विजेता टीम को 4.8 करोड़ रुपये मिले थे। 2015 में प्राइज मनी बढ़कर कुल 40 करोड़ रुपये हुई, जिसमें विजेता टीम को 15 करोड़ रुपये मिले। 2018 में कुल प्राइज मनी 50 करोड़ रुपये थी, जिसमें विजेता टीम को 20 करोड़ रुपये मिले थे। इस साल कुल प्राइज मनी 55 करोड़ रुपये तक पहुंच गई, जिसमें विजेता टीम को 20 करोड़ रुपये दिए गए।