मोदी की प्रचंड जीत के बाद बदले TIME के सुर, अब बताया देश को जोड़ने वाला नेता

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के अंतिम दौर में 10 मई को दुनिया की बहुप्रतिष्ठित मैग्जीन TIME ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए ‘डिवाइडर-इन-चीफ’ शब्द का इस्तेमाल किया था. टाइम के इस कवर पर दुनियाभर में बवाल मच गया था. लेकिन, चुनाव नतीजों के ठीक 6 दिन बाद TIME बदल गया है. मंगलवार को मैग्जीन ने अपने एक आर्टिकल में नरेंद्र मोदी को देश को जोड़ने वाला बताया है. TIME ने लिखा है कि जो दशकों में कोई प्रधानमंत्री नहीं कर पाया, वो नरेंद्र मोदी ने कर दिया.

दरअसल, TIME मैग्जीन पर एक ओपिनियन आर्टिकल छपा है जिसका टाइटल है ‘Modi has united India like no Prime Minister in decades’ यानी दशकों में जो कोई अन्य प्रधानमंत्री नहीं कर सका, उस तरह नरेंद्र मोदी ने भारत को जोड़ दिया. मैग्जीन में ये आर्टिकल मनोज लाडवा ने लिखा है, जिन्होंने 2014 में Narendra Modi For PM का कैंपेन चलाया था.

TIME

@TIME

TIME’s new international cover: Can the world’s largest democracy endure another five years of a Modi government? http://mag.time.com/cKf9Dci 

14.3K people are talking about this

लेख में इस चुनाव की सबसे बड़ी उपलब्धि बताई है कि नरेंद्र मोदी ने देश में काफी समय से चल रहे जातिवाद को खत्म किया है और एकजुट कर लोगों का मत प्राप्त किया है. नरेंद्र मोदी ने पिछड़ी जाति के लोगों को अपने हक में लाने में कामयाबी पाई है, लेकिन वेस्टर्न मीडिया अभी भी नरेंद्र मोदी को अगड़ी जाति के नेता के तौर पर प्रोजेक्ट कर रहा था.

लेख में नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए लिखा गया है कि किस तरह उन्होंने एक गरीब परिवार से होते हुए भी देश के सबसे बड़े पद पर जगह बनाई और गांधी परिवार से राजनीतिक लड़ाई लड़ी. लेखक ने लिखा कि पिछले पांच साल में कई आलोचनाओं के बाद भी जिस तरह नरेंद्र मोदी ने देश को एक सूत्र में पिरोया है, वैसा पिछले पांच दशक में कोई प्रधानमंत्री नहीं कर पाया. (नए आर्टिकल का स्क्रीनशॉट)

बता दें कि 10 मई को मैग्जीन ने अपने कवर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर छापी थी. इसका टाइटल ‘Divider in Chief’ दिया गया था यानी बांटने वालों का प्रमुख. जिसपर देश में काफी बवाल हुआ था. उस आर्टिकल को आतिश तसीर ने लिखा था, उन्होंने अपने लेख में बीते पांच साल में हुई लिंचिंग को आधार बना नरेंद्र मोदी की कड़ी आलोचना की थी.

बता दें कि लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को नरेंद्र मोदी की अगुवाई में 303 सीटें मिली हैं, तो वहीं उनके गठबंधन NDA को कुल 353 सीटें मिली हैं. ऐसा लंबे समय के बाद ही संभव हो पाया है जब एक ही दल की सरकार लगातार दो बार पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में आई हो.