कभी भी पलटी मार सकते हैं नीतीश कुमार, अब मांझी से नजदीकियां बनाने में जुटे, बिहार का सियासी पारा चरम पर

 पटना। राजनीति में ना तो कोई हमेशा दुश्मन होता है और ना ही दोस्त, कुछ समय पहले नीतीश कुमार के धुर विरोधी माने जाने वाले पूर्व सीएम जीतन राम मांझी की नजदीकियां सुर्खियों में हैं, पूर्व सीएम जदयू की ओर से आयोजित इफ्तार पार्टी में पहुंचे, जहां नीतीश ने गर्मजोशी से सीएम का स्वागत किया, अब कहा जा रहा है कि आज मांझी के सरकारी आवास पर इफ्तार पार्टी है, जिसमें नीतीश शिरकत करेंगे।

जदयू ने भेजा था आमंत्रण
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की इफ्तार पार्टी में शामिल होने के बाद जीतन राम मांझी ने कहा कि जदयू ने उन्हें इफ्तार में शामिल होने के लिये निमंत्रण भेजा था, इसमें राजनीति की कोई बात नहीं है, पूर्व सीएम ने ये भी कहा कि मेरे और नीतीश जी के बीच कोई खिचड़ी नहीं पक रही है, मांझी ने बताया कि उन्होने भी नीतीश कुमार को इफ्तार में शामिल होने के लिये आमंत्रित किया है।

बीजेपी नेता ने बनाये रखी दूरी
हालांकि जदयू के इस इफ्तार पार्टी में बीजेपी की ओर से कोई भी बड़ा नाम या चेहरा शामिल नहीं हुआ, वहीं बीजेपी की ओर से आयोजित इफ्तार में भी जदयू नेताओं ने हिस्सा नहीं लिया, जिसके बाद से बिहार का सियासी पारा चढा हुआ है, लोग इस बात की चर्चा कर रहे हैं कि क्या नीतीश एक बार फिर बीजेपी से तलाक लेंगे, और दूसरे दलों के साथ गठबंधन कर सरकार चलाएंगे।8 जदयू मंत्रियों ने लिया शपथ 
आपको बता दें कि बीते दिन जदयू कोटे से नीतीश सरकार में 8 मंत्रियों ने शपथ लिया, एक भी बीजेपी नेता को नीतीश ने मंत्रिमंडल में जगह नहीं दी, इसके बाद नीतीश ने कहा कि जदयू कोटे से मंत्री पद खाली था, इसलिये उन्हें शपथ दिलाया गया, बीजेपी से कोई नाराजगी नहीं है, मालूम हो कि नीतीश ने मोदी सरकार में भी शामिल होने से इंकार कर दिया है, तब से ही दोनों के रिश्तों में तल्खी देखने को मिल रहा है।