धोनी ने ग्लव्ज पर लगाया सेना का बैज; ICC ने कहा – अपने दस्ताने से सेना का चिह्न हटाएं MS

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने बीसीसीआई से अपील करते हुए कहा है कि वह विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी से उनके दस्तानों पर बने सेना के चिह्न को हटाने को कहे. आईसीसी विश्व कप-2019 में भारत के पहले मैच में धोनी को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विकेटकीपिंग दस्तानों पर भारतीय पैरा स्पेशल फोर्स का चिह्न का इस्तेमाल करते देखा गया था. आईसीसी ने बीसीसीआई से कहा है कि वह धोनी के दस्तानों पर से यह चिह्न हटवाए.

आईसीसी के महाप्रबंधक, रणनीति समन्व्य, क्लेयर फरलोंग ने कहा, “हमने बीसीसीआई से इस चिह्न को हटवाने की अपील की है.” यह पूछे जाने पर कि क्या आईसीसी का नियम का उल्लंघन करने पर धोनी पर कोई जुर्माना तो नहीं लगाया जाएगा, इस पर उन्होंने कहा, “पहली बार उल्लंघन करने पर कोई जुर्माना नहीं लगेगा, सेना का बैज हटाने के लिए उनसे केवल अनुरोध किया गया है.”

धोनी के दस्तानों पर ‘बलिदान ब्रिगेड’ का चिह्न है. सिर्फ पैरामिल्रिटी कमांडो को ही यह चिह्न धारण करने का अधिकार है. धोनी को 2011 में पैराशूट रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट कर्नल के मानद उपाधी मिली थी. धोनी ने 2015 में पैरा ब्रिगेड की ट्रेनिंग भी ली है.

इस पर हालांकि सोशल मीडिया पर धोनी की काफी तारीफ हो रही है, लेकिन आईसीसी का नियम अलग है. आईसीसी के नियम के मुताबिक, “आईसीसी के कपड़ों या अन्य चीजों पर अंतर्राष्ट्रीय मैच के दौरान राजनीति, धर्म या नस्लभेदी जैसी चीजों का संदेश नहीं होना चाहिए.”

धोनी का सेना के प्रति प्रेम जगजाहिर है. इस बात की भी संभावना जताई जा रही है कि धोनी ने पहले भी दस्तानों में सेना का बैज का इस्तेमाल किया है, लेकिन किसी का ज्यादा ध्यान नहीं गया. बुधवार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ जब धोनी मैच खेल रहे हैं, तब कैमरे ने उनके दस्तानों पर फोकस किया और यह बात सामने आई.