अलीगढ़ केस: SIT जांच में खुलासा, बदला लेने के लिए जाहिद और असलम ने की हत्या

नई दिल्ली/अलीगढ़। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में ढाई साल की बच्ची की हत्या की एसआईटी जांच में बड़ा खुलासा सामने आया है. इस केस में गिरफ्तार किए आरोपी मोहम्मद जाहिद और मोहम्मद असलम ने बच्ची के परिवार से बदला लेने के लिए मासूम की हत्या की थी. एसआईटी जांच के सूत्रों से यह जानकारी मिली है. इस हत्याकांड में एक और आरोपी मेहंदी और जाहिद की पत्नी ने हत्या करने में जाहिद और असलम की मदद की थी. इन दोनों को भी गिरफ्तार कर लिया गया है.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक आरोपियों ने पूछताछ में बताया है कि बच्ची की लाश असलम के घर भूसे में रखी गई थी. लेकिन पुलिस को शक है कि लाश को नमी वाली जगह पर या फिर फ्रिज में रखा गया था. बच्ची की हत्या असलम के घर गला दबाकर की गई थी. बच्ची को जिस दुपट्टा से लपेटा गया था वो जाहिद की पत्नी का था.

पुलिस के मुताबिक बच्ची 30 मई को पड़ोस के ही घर में खेल रही थी. वह अपने भाई-बहन के साथ 8.30 बजे घर से निकली थी. इस दौरान वह गलत दिशा में चली गई और आरोपियों ने उसका अपहरण कर लिया.

इससे पहले पुलिस ने शनिवार को मामले में 2 और आरोपियों को गिरफ्तार की. पुलिस मेहंदी और जाहिद की पत्नी को पकड़ने में सफल रही. इस मामले में 4 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

अलीगढ़ के एसएसपी ने कहा कि आज 2 और आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं. जाहिद का छोटा भाई मेहंदी और जाहिद की पत्नी गिरफ्तार किए जा चुके हैं. बच्ची की लाश को जिस दुपट्टा से लपेटा गया था वो जाहिद की पत्नी का था. इस मामले में अब तक 4 गिरफ्तारी हुई है.

असलम और जाहिद को लेकर भी खुलासा

एसआईटी जांच में मोहम्मद जाहिद और मोहम्मद असलम को लेकर बड़ा खुलासा हुआ. मासूम बच्ची के साथ दरिंदगी करने वाला मोहम्मद जाहिद एक अच्छा खासा जुआरी है. उसके दोस्त उसे सट्टा किंग के नाम से भी बुलाते हैं. वहीं मामले में एक और आरोपी मोहम्मद असलम बच्ची की बेरहमी से हत्या करने से पहले और भी कई वारदातों को अंजाम दे चुका है.

उसे पहले भी गिरफ्तार किया जा चुका है. उसे अपनी रिश्तेदार की बच्ची के साथ यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. असलम को 2014 में इस मामले में गिरफ्तार किया गया था. दूसरा मामला दिल्ली के गोकुलपुरी का है. उसपर 2017 में छेड़छाड़ और अपहरण का मामला दर्ज हुआ था. इतना ही नहीं उसने करीब एक साल पहले अपनी पत्नी की पिटाई की थी. हालांकि लोगों ने बीच बचाव किया था.