अलीगढ़: बच्ची की हत्या का मुख्य आरोपी अपनी बेटी से रेप के आरोप में जेल जा चुका है

लखनऊ। अलीगढ़ में दो साल की बच्ची की हत्या के मामले में जिस मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया गया है, वो पहले भी अपनी ही बेटी से रेप के आरोप में गिरफ्तार हो चुका है. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक पुलिस ने यह जानकारी अखबार को दी. पुलिस के अनुसार आरोपी के खिलाफ पहले से ही रेप, महिला से मारपीट और अपहरण के कुल चार मामले चल रहे हैं. 2014 में बेटी से रेप के आरोप में मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया गया था. एक रिश्तेदार की शिकायत के आधार पर कार्रवाई की गई थी. एसएचओ ने बताया कि कुछ महीने बाद उसे इस मामले में जमानत दे दी गई थी.

2 जून को यूपी के अलीगढ़ में कुछ लोगों की नज़र कूड़े के ढ़ेर पर इकट्ठे कुत्तों पर पड़ी. वे कुत्ते कुछ नोंच-नोंच कर खा रहे थे. पास जाकर लोगों ने देखा तो पता चला कि वे एक शव को नोंच रहे थे. मामले की सूचना पुलिस को दी गई. पुलिस मौके पर पहुंची तो पता चला कि शव उसी बच्ची का था जिसे पुलिस 4 दिन से ढूंढ रही थी. बच्ची के घरवालों ने भी बच्ची के शव को पहचान लिया. बच्ची की बेरहमी से हत्या की गई थी. उसकी बॉडी को क्षत-विक्षत किया किया गया था. उसे जलाने की भी कोशिश की गई थी. बच्ची की हत्या पैसों की वजह से की गई थी.

लड़की की मां ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया,

पुलिस ने समय रहते कार्रवाई नहीं की. सुबह के लगभग 8.30 बजे की बात है. वह घर के बाहर खेल रही थी. वह बहुत चंचल थी. उन्होंने उसे हमारे घर के बाहर से उठाया. हमने ध्यान नहीं दिया क्योंकि वह आमतौर पर पड़ोस में खेलने चली जाती है. लेकिन जब वह वापस नहीं लौटी, तो हम घबरा गए और खोजबीन शुरू की. पुलिस ने उस तरह का काम नहीं किया जैसा कि उसे पहले दिन करना चाहिए था.

बच्ची के पिता ने कहा,

मैं न्याय की मांग कर रहा हूं. और कुछ नहीं. यह संभव है कि उसके साथ रेप भी किया गया हो.

7 जून को एडिशनल डायरेक्टर जनरल (एडीजी) लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने कहा,

पूरा समाज इस अपराध से दुखी है. एसपी ग्रामीण की अगुवाई में एक विशेष जांच दल का गठन किया गया है. विशेषज्ञों की एक टीम, सर्कल अधिकारी और फोरेंसिक टीम के सदस्य इस जांच दल का हिस्सा है. जल्द न्याय के लिए इस केस को फास्ट-ट्रैक कोर्ट में ट्रांसफर किया जाएगा. जांच में लापरवाही के लिए 5 पुलिसकर्मियों जिसमें एसएचओ भी शामिल हैं को सस्पेंड किया गया है.

क्यों की गई बच्ची की हत्या?
एसएसपी आकाश कुल्हरि के मुताबिक बच्ची की हत्या रुपयों के लेनदेन के विवाद में की गई. बच्ची की पिता के मुताबिक जाहिद और असलम ने बच्ची के पिता से 40 हजार रुपये उधार लिए थे. जाहिद ने 35 हजार रुपए उसे वापस तो कर दिए लेकिन बचे हुए 5 हजार रुपयों को लेकर अकसर बहसबाजी होती थी. पैसों के लेन-देन पर दोनों के बीच कई बार कहासुनी भी हुई. इसके बाद बदला लेने के लिए जाहिद और असलम ने मिलकर बच्ची को मार दिया.