अमेरिका और ईरान के बीच तनाव से क्रूड ऑयल महंगा, भारत में बढ़ सकती हैं कीमत

नई दिल्ली। भारत ने तेल की कीमतों में बढ़ोतरी पर चिंता जाहिर की है. ईरान द्वारा अमेरिकी ड्रोन को मार गिराए जाने से जुड़े घटनाक्रमों के कारण तेल की कीमतें तेजी से बढ़ी हैं. इसके चलते भारत ने ओपेक के मुख्य सदस्य देश सऊदी अरब को तेल की कीमतों को काबू में रखने के लिए सक्रिय भूमिका निभाने के लिए कहा है. ब्रेंट कच्चे तेल की कीमत में गुरुवार को 5 प्रतिशत का उछाल दर्ज किया गया था, जो जनवरी के बाद से सर्वाधिक है.

65 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर पहुंचे दाम
ब्रेंट कच्चे तेल की कीमत फिलहाल 65 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर है. गौरतलब है कि होर्मुज जलडमरू मध्य पर ईरानी बलों द्वारा अमेरिकी नौसेना के एक ड्रोन को गिराए जाने के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा ईरान के खिलाफ कड़ा रुख अख्तियार करने के बाद क्षेत्र में तनाव की स्थिति है. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने सऊदी के पेट्रोलियम मंत्री खालिद अल फलीह से हालात पर चर्चा भी की.

Dharmendra Pradhan

@dpradhanbjp

Had a telephonic conversation with HE @Khalid_AlFalih, Min. Of Energy, Industry & Mineral Resources, Saudi Arabia and discussed about further strengthening cooperation in hydrocarbon sector to enhance strategic partnership that exists between India 🇮🇳 and 🇸🇦 Saudi Arabia.

49 people are talking about this

कीमतों में उतार-चढ़ाव को लेकर बातचीत हुई
प्रधान ने ट्वीट किया, ‘होर्मुज जलडमरू मध्य की घटना चिंता की बात है जिससे जिससे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है.’ उन्होंने तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव को लेकर भारतीय ग्राहकों की संवेदनशीलता का जिक्र किया. उन्होंने लिखा, ‘सऊदी अरब के ऊर्जा, उद्योग और खनिज संसाधन मंत्री खालिद अल फलीह से फोन पर बात हुई. भारत और सऊदी अरब के बीच रणनीतिक साझेदारी को और मजबूत बनाने के लिए हाइड्रोकार्बन क्षेत्र में सहयोग को और बढ़ाने पर चर्चा हुई.’