टीएनएन वर्ल्ड अब ऑफलाइन, प्लेटफॉर्म का नया अवतार ‘ईवा’ज़ टैन्ट्रिक मसाज’

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से पहले तक इंग्लैंड स्थित इस न्यूज पोर्टल ने नोटबंदी और इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVMs) पर प्रहार करने वाली कई तथाकथित स्टोरीज कीं. लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के दो हफ्ते से भी कम वक्त में ये न्यूज पोर्टल एक असामान्य डोमेन- ‘कामुक बॉडी-मसाज सर्विस’ में बदल गया. लंदन के टीएनएन वर्ल्ड की स्टोरीज का इस्तेमाल कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने चुनाव से पहले कई मौकों पर मोदी सरकार को निशाना बनाने के लिए किया. अब टीएनएन वर्ल्ड ऑफलाइन हो चुका है.

इंडिया टुडे के ओपन सोर्स इंवेस्टीगेशन से खुलासा हुआ है कि इस प्लेटफॉर्म की डायरेक्टर के तौर पर रोमानियाई नागरिक डियाना बिसीन का नाम है. बिसिन ने बिजनेस मॉडल को ग्लोबल न्यूज प्लेटफॉर्म से हटाकर कामुक मसाज सर्विस में बदल दिया है. नए अवतार में इसका नाम ‘ईवा’ज टैन्ट्रिक मसाज’ है. सर्विस की ओर से लंदन में अंतरंग कामुक मसाज सेवा प्रदान करने का वादा किया जाता है.

26 मार्च को पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल, गुलाम नबी आजाद, अहमद पटेल, शरद यादव, हेमंत सोरेन और मनोज झा ने दिल्ली के कॉन्स्टीट्यूशन क्लब में संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया था. इसमें टीएनएन वर्ल्ड की ओर से किया गया कथित स्टिंग ऑपरेशन दिखाया गया. इस स्टोरी में आरोप लगाया गया कि गुजरात में एक बीजेपी कार्यकर्ता नोटबंदी के बाद बैंक में पुराने नोटों को एक्सचेंज करने की अवधि बीत जाने के बाद भी 40%  कमीशन पर उनका लेन-देन करता रहा.सिब्बल ने 9 अप्रैल को कांग्रेस दफ्तर में एक और प्रेस कॉन्फ्रेंस में टीएनएन वर्ल्ड की कई स्टोरीज का हवाला दिया जिसमें दावा किया गया कि बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने 26 विभिन्न विभागों की मदद से मनी-एक्सचेंज ऑपरेशन चलाया, जिनमें भारत की खुफिया एजेंसी, रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) का नाम भी शामिल था. टीएनएन वर्ल्ड ने तब अपने को एक स्वतंत्र और इंग्लैंड स्थित न्यूज पब्लिशर बताया था. पब्लिक डोमेन में मौजूद डेटा बताता है कि बिसिन का टीएनएन वर्ल्ड की पेरेंट कंपनी पर नियंत्रण था. कई मीडिया रिपोर्ट्स में उन स्टोरीज़ पर सवाल उठाए गए जिनका हवाला सिब्बल ने दिया था.

हालांकि कांग्रेस नेता ने, 17 अप्रैल को कांग्रेस मुख्यालय में टीएनएन वर्ल्ड के कंटेंट के आधार पर ही एक और प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इससे पहले पोर्टल ने अपना पहला लाइव फेसबुक ब्रॉडकास्ट किया था. इसमें लंदन में एक कथित हैकर की ओर से संबोधित न्यूज़ कॉन्फ्रेंस को दिखाया गया. इस इवेंट की पत्रकार समुदाय की ओर से काफी आलोचना की थी क्योंकि उन्होंने हैकर के दावों को निराधार पाया था. इस कार्यक्रम के एक आयोजक ने बाद में ऐसे दावों से खुद को अलग कर लिया था. लेकिन टीएनएन वेबसाइट ने अपनी रिपोर्ट प्रकाशित करना जारी रखा जिनमें भारत सरकार पर बड़े पैमाने पर ईवीएम से छेड़छाड़ के आरोप लगाए गए.

इंडिया टुडे की जांच में पाया गया कि ये पोर्टल 3 जून तक एक्टिव था, उसके बाद ऑफलाइन हो गया. जांच से सामने आया कि यूनाइटेड किंगडम के रजिस्ट्रार ऑफ कम्पनीज में दर्ज फाइलिंग्स के मुताबिक डियाना बिसीन, जो कि ट्राईकलर न्यूज नेटवर्क लिमिटेड में एकमात्र डायरेक्टर हैं, ने लंदन में एक और कंपनी इवा’ज टैनट्रिक मसाज लिमिटेड के नाम से एक और कंपनी खोली.

ईवा’ज की वेबसाइट पर लिखा गया है कि ये स्वास्थ्य से जुड़ी सेवाएं नहीं बल्कि स्पेन, ब्राज़ील, बेलारूस, मोल्डोवा, इंग्लैंड, लिथुआनिया और रूस की लड़कियों से ‘म्युचुअल लव’ उपलब्ध कराती है. इंडिया टुडे की ओर से जिन दस्तावेज की पड़ताल की गई उनके मुताबिक बिसीन ने नई कंपनीं को एकमात्र डायरेक्टर के तौर पर 29 अप्रैल को इनकॉरपोरेट कराया.

यूके फाइलिंग्स के मुताबिक बिसीन ने टीएनएन की पेरेंट कंपनी ट्राईकलर न्यूज़ नेटवर्क लिमिटेड में भी इकलौती डायरेक्टर के तौर पर अपनी भूमिका जारी रखी. ‘Whois record Lookup’ सर्च से पता चलता है कि ईवा’ज वेबसाइट 24 अप्रैल को रजिस्टर्ड हुई. इंडिया टुडे ने कई संदेशों के जरिए टीएनएन वर्ल्ड से संपर्क की कोशिश की लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. राजनीतिक गतिविधियों, चुनाव में निहित तत्वों का दखल अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहले भी सुर्खियां बटोरता रहा है.

विदेशी समूहों पर अमेरिकी चुनाव और 2016 में ब्रेक्सिट जनमत संग्रह को प्रभावित करने के आरोप लगते रहे हैं. विशेषज्ञ आशंका जताते हैं कि इंटरनेट से फैलाया जाने वाला कंटेट और बड़े पैमाने पर गलत सूचनाओं का प्रसार कथित तौर पर नतीजों को प्रभावित करने के लिए होता है. भारत की चुनाव प्रक्रिया दुनिया में सबसे बड़े और जटिल चुनाव तंत्रों में शामिल हैं.

2019 चुनाव से पहले मोदी सरकार ने बीजेपी के खिलाफ कांग्रेस पर साज़िश रचने का आरोप लगाते हुए इसकी जांच कराने की बात कही थी. तत्कालीन रक्षा मंत्री (अब वित्त मंत्री) निर्मला सीतारमण ने मार्च में एक न्यूज कॉन्फ्रेंस में कहा था, हम उन पर कानूनी कार्रवाई करेंगे. हम इसे ऐसे ही नहीं जाने देंगे. ये वेबसाइट (टीएनएन वर्ल्ड) सिर्फ एक साल से रजिस्टर्ड है. हो सकता है कांग्रेस का इसे चुनाव के बाद बंद करने का प्लान हो.टीएनएन वर्ल्ड से जुड़ा घटनाक्रम-

11 नवंबर 2018: डोमेन ट्राईकलरीवी डॉट कॉम रजिस्टर्ड

29 नवंबर, 2018: ट्राईकलर न्यूज नेटवर्क यूनाइटेड किंगडम में रोमानियाई नागरिक डियाना बिसीन ने रजिस्टर्ड कराया.

31 जनवरी 2019: टीएनएन डॉट वर्ल्ड डोमेन रजिस्टर्ड

16 जनवरी 2019: टीएनएन ने अपने पहले फेसबुक ब्रॉडकास्ट में दावा किया कि 2015 गुरदासपुर आतंकी हमला भारत सरकार ने बिहार विधानसभा चुनाव जीतने के लिए कराया.

21 जनवरी 2019: टीएनएन फेसबुक पेज ने भारत में ईवीएम से बड़े पैमाने पर छेड़छाड़ का दावा करने वाली प्रेस कान्फ्रेंस का लाइव ब्रॉडकास्ट और प्रमोशन किया.

26 मार्च, 9 अप्रैल और 17 अप्रैल 2017: टीएनएन के वीडियोज़ के आधार पर कपिल सिब्बल ने कई प्रेस कॉन्फ्रेंस कीं, जिनमें नोटबंदी के बाद के दिनों में बीजेपी पर मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप लगाए गए.  

29 अप्रैल 2019: टीएनएन की इकलौती डायरेक्टर डियाना बिसीन ने लंदन में मसाज सर्विस कंपनी खोली.

जून 2019: टीएनएन वर्ल्ड और ट्राईकलरटीवी डॉट कॉम ऑफलाइन हो गए.