मंगलसूत्र-सिंदूर लगाने पर बोलीं नुसरत जहां- मेरे पहनावे पर किसी को टिप्पणी नहीं करनी चाहिए

नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस सांसद नुसरत जहां द्वारा मंगलसूत्र पहनने और सिंदू लगाने का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. नुसरत जहां के खिलाफ फतवा जारी किया गया है. फतवा देवबंद के धर्मगुरुओं द्वारा जारी किया गया है. उनका कहना है कि मुस्लिम लड़कियों को सिर्फ मुस्लिम लड़कों से ही निकाह करना चाहिए.

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए हुए नुसरत जहां ने कहा कि मैं एक समावेशी भारत का प्रतिनिधित्व करती हूं. जो कि जाति, पंथ और धर्म की बाधाओं से परे है. मैं सभी धर्मों का सम्मान करती हूं. मैं अभी भी एक मुसलमान हूं. किसी को भी इस बात पर टिप्पणी नहीं करनी चाहिए कि मुझे क्या पहनना चाहिए?

नुसरत ने 19 जून को कारोबारी निखिल जैन से तुर्की में शादी की थी. वह पश्चिम बंगाल के बशीरहाट से सांसद हैं. वह 3.5 लाख वोटों से जीतीं. मुस्लिम धर्मगुरु असद वसमी ने कहा, ”जांच के बाद पता चला कि नुसरत ने जैन धर्म के युवक से शादी की है. इस्लाम कहता है कि मुस्लिम की शादी मुस्लिम से होनी चाहिए. नुसरत एक अभिनेत्री हैं और अभिनेता-अभिनेत्री धर्म की फिक्र नहीं करते. जो उनका मन करता है, वही करते हैं. इसी का प्रदर्शन उन्होंने संसद में किया.”

गौरतलब है कि 29 साल की नुसरत की पति निखिल की टेक्सटाइल चेन के साथ काम करने के दौरान उनसे मुलाकात हुई थी. इस जोड़े ने तुर्की के दक्षिणी एजियान तट पर मुगला प्रांत में करीबी रिश्तेदारों और दोस्तों की मौजूदगी में शादी की थी. इस दौरान उनकी करीबी एक्ट्रेस और सांसद मिमी चक्रवर्ती भी मौजूद थीं. इस कपल ने 4 जुलाई को कोलकाता में एक भव्य रिसेप्शन समारोह की योजना बनाई है. इसमें बड़ी तादाद में बंगाली फिल्म हस्तियों और राजनीतिक नेताओं के शामिल होने की उम्मीद है.