कर्नाटक: कांग्रेस के 21 मंत्रियों ने दिया इस्‍तीफा, कुमारस्‍वामी सरकार का संकट गहराया

बेंगलुरू। सत्‍तारूढ़ जेडीएस-कांग्रेस सरकार का संकट लगातार गहराता जा रहा है. सोमवार को कांग्रेस कोटे के मंत्रियों की डिप्‍टी सीएम जी परमेश्‍वर के साथ नाश्‍ते पर मुलाकात हुई. उसके बाद न्‍यूज एजेंसी ANI के मुताबिक कांग्रेस कोटे के 21 मंत्रियों ने अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया है. कांग्रेस विधायक दल के नेता और पूर्व मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, ”कांग्रेस के 21 मंत्रियों ने स्‍वेच्‍छा से इस्‍तीफा दे दिया है.” उल्‍लेखनीय है कि छह जून को कांग्रेस-जेडीएस के 11 विधायकों के विधानसभा से इस्‍तीफा देने के बाद सरकार के अस्तित्‍व पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. नतीजतन अमेरिका की यात्रा पर गए मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारस्‍वामी को बीच में ही रविवार शाम को बेंगलुरू वापस लौटना पड़ा.

नतीजतन इन इस्‍तीफों के स्‍वीकार होने की स्थिति में 225 सदस्‍यीय विधानसभा में सत्‍तारूढ़ गठबंधन की ताकत 105 रह जाएगी, जबकि बहुमत के लिए 113 वोटों का जादुई आंकड़ा चाहिए. उधर 10 बागी विधायक मुंबई के सोफीटेल होटल में ठहरे हुए हैं और अपने रुख पर अड़े हैं.

 

ANI

@ANI

Karnataka Congress Legislature Party leader Siddaramaiah corrects himself; says, “21 Karnataka Congress ministers have resigned voluntarily” https://twitter.com/ANI/status/1148132965643366400 

ANI

@ANI

Karnataka Congress Legislature Party leader Siddaramaiah: All 22 Karnataka Congress ministers have resigned

View image on Twitter
23 people are talking about this

इसके साथ ही सोमवार को निर्दलीय विधायक एच नागेश ने कर्नाटक की कुमारस्‍वामीसरकार से समर्थन वापस ले लिया है और मंत्री पद से इस्‍तीफा दे दिया है. उनको आज सुबह सभी मंत्रियों की बुलाई ब्रेकफास्‍ट मीटिंग में हिस्‍सा लेना था, लेकिन इसके बजाय वह राजभवन चले गए और इस्‍तीफा देकर अपनी प्राइवेट कार से चले गए. इसके साथ ही उन्‍होंने अपने इस्‍तीफे में यह भी कहा कि यदि बीजेपी सरकार सत्‍ता में आती है तो वह उसका समर्थन करेंगे.

नागेश के इस्‍तीफा देने के बाद बीजेपी नेता शोभा करांलजे ने कहा कि उनकी पार्टी नागेश का स्‍वागत करती है. इसके साथ ही जोड़ा कि बागी कांग्रेस और जेडीएस विधायकों के साथ संपर्क नहीं है. उन्‍होंने ये भी कहा कि कुमारस्‍वामी सरकार को तत्‍काल इस्‍तीफा दे देना चाहिए.