विराट कोहली को 661 दिन बाद बल्ले से मिली ‘बेवफाई’, संकट में पड़ गई टीम इंडिया

कप्तान विराट कोहली की अगुवाई में टीम इंडिया न्यूजीलैंड के खिलाफ शानदार जीत के साथ फाइनल में पहुंचने की उम्मीद लगाए बैठी थी, लेकिन 240 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम का शीर्ष क्रम बुरी तरह से लड़खड़ा गया और महज 19 गेंदों में 3 बड़े बल्लेबाज आउट हो गए जिसमें खुद विराट कोहली भी शामिल थे.

कोहली के क्रिकेट करियर के इस सबसे बड़े मुकाबले में उनसे बड़ी और शानदार पारी की आस थी, लेकिन ऐन मौके पर उनका बल्ला ही दगा दे गया और महज 6 गेंद खेलकर महज 1 रन पर आउट हो गए.

5 बार 1 रन पर आउट हुए

वनडे करियर में 41 शतक और 11,286 रन बनाने वाले कोहली संकट में पड़ी टीम इंडिया को कई बार निकाल चुके हैं. उन्होंने न सिर्फ टीम को संकट से बाहर निकाला बल्कि जीत की राह पर ले गए, लेकिन इस सेमीफाइनल मुकाबले में उनका बल्ला फ्लॉप हो चला.

कप्तान विराट कोहली ने 236 वनडे मैचों की 228 पारियों में वह महज पांचवीं बार 1 रन बनाकर पवेलियन लौटे हैं. जबकि इस दौरान वह अपने वनडे करियर में 12 बार खाता नहीं खोल सके. अपनी 228 पारियों में वह 49 बार दहाई का आंकड़ा पार नहीं कर सके और आउट हो गए. जबकि 3 बार वह 10 से कम के स्कोर पर नाबाद पवेलियन लौटे.

661 दिनों में 20 बार अर्धशतकीय पारी

टीम इंडिया की रन मशीन कहे जाने वाले कोहली का 17 सितंबर 2017 के बाद से यह सबसे खराब प्रदर्शन है. चेन्नई में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इस मैच में वह 4 गेंद खेलने के बावजूद खाता नहीं खोल सके और 0 पर आउट हो गए थे. इस खराब प्रदर्शन के 661 दिन बाद उनके बल्ले से करियर का सबसे छोटा स्कोर निकला. इस दौरान कोहली ने 11 शतक और 9 अर्धशतक लगाए.

2019 में सेमीफाइनल मुकाबले से पहले कोहली के प्रदर्शन की बात करें तो इस साल 3 शतक के अलावा 13 बार 40 या उससे बड़ी पारियां खेली. सेमीफाइनल मुकाबले से पहले कोहली ने वर्ल्ड कप में लगातार 5 अर्धशतक लगाए थे, लेकिन न्यूजीलैंड के खिलाफ मुकाबले में कोहली का बल्ला उनसे रूठ गया.

न सिर्फ कोहली का बल्ला रूठा, बल्कि 5 शतक लगाने वाले रोहित शर्मा भी महज 1 रन बनाकर पवेलियन लौट गए. रोहित के साथ टीम को सधी शुरुआत दिलाने वाले लोकेश राहुल (1) भी क्रिकेट प्रशंसकों को निराश कर गए.