बेटी साक्षी के आरोपों पर पिता राजेश मिश्रा का फिर आया बयान ‘अजितेश घर पर खाता था खाना’

बरेली। बरेली के बिथरी से विधायक राजेश मिश्र उर्फ पप्पू भरतौल इन दिनों खूब चर्चा में हैं । बेटी साक्षी मिश्रा ने घर छोड़ दिया और दलित युवक से शादी कर ली, और फिर पिता से जान का खतरा बताकर सोशल मीडिया में वीडियो भी पोस्‍ट कर दिया । मामला बढ़ते-बढ़ते टीवी चैनलों तक जा पहुंचा है, और कुछ दिनों से लगातार ही इस पर डिबेट हो रही है । साक्षी और अजितेश दोनों ही विधायक से अपनी जान का खतरा बता रहे हैं तो वहीं अब इस पर राजेश मिश्रा का बयान आया है, बेटी के जातिवाद के आरोपों से विधायक ने साफ इनकार किया है ।

जाति को लेकर आपत्ति नहीं : राजेश मिश्रा
बरेली से विधायक राजेश मिश्रा ने बेटी के आरोपों का खंडन करते हुए कहा है – कि बेटी, अजितेशजाति को लेकर जो भी बातें टीवी चैनलों पर बोल रहे हैं मैं उन सब को नकारता हूं । राजेश मिश्रा ने कहा कि जातिवाद का कोइ र्प्रशन ही नहीं, उन्‍होने कहा कि अजितेश तो उनके घर खाना तक खाता था। टीवी पर बेटी के आरोपों से परेशान हो चुके विधायक राजेश मिश्र ने कहा कि मामला खत्म करिए, हम अपना पक्ष रख चुके हैं। साक्षी बालिग है, अपने निर्णय ले सकती है।

तलाशने का प्रयास भी नहीं किया – राजेश मिश्रा
राजेश मिश्रा ने कहा कि साक्षी और अजितेश को धमकी देना तो दूर, हमने तो उन्हें तलाशने का प्रयास तक नहीं किया । वहीं साक्षी मिश्रा के मुताबिक उसने कहा कि पिता झूठ बोल रहे हैं, जब वो जयपुर में पढ़ रही थी तो उसकी पहरेदारी कराई गई । बिथरी से विधायक ने इस आरोप पर जवाब दिया कि परीक्षा के समय बच्चों पर काफी दबाव होता है, इसलिए मदद के लिए मां को साथ भेजा। ताकि उसे समय से खाना आदि मिल सके। वायरल वीडियो में साक्षी मिश्रा ने किसी राजीव राणा का भी नाम लिया, विधायक ने बेटी के इस आरोप को भी नकार दिया।

अजितेश के पिता का बयान
वहीं टीवी चैनल में अजितेश के पिता हरीश कुमार भी नजर आ रहे हैं । डिबेट में जब उनसे सवाल हुए तो उनका कहना था कि अजितेश ने जो फैसला लिया अब वो उसके साथ हैं । हालांकि पहले उन्‍होने उसे ऐसा करने से मना किया था । जितेश को 2 जुलाई को अजितेश का जन्मदिन था, 3 को उसने कहा कि वो साक्षी से शादी करना चाहता है और साथ जा रहा है । ये सुनकर वो चज्ञैंक गए थे । हरीश कुमार ने कहा कि उन्‍हाने बेटे अजितेश को समझाया था कि विधायक के घर उनका बीस साल से आना-जाना है। उनके परिवार के साथ विश्वासघात करना सही नहीं है। लेकिन फिर भी दोनों बच्चों ने किस मजबूरी में ऐसा कदम उठा लिया, कह नहीं सकते ।