मध्‍यप्रदेश में कुत्‍तों का तबादला आया सुर्खियों में, बीजेपी ने कमलनाथ सरकार को घेरा

भोपाल। मध्‍यप्रदेश में इन दिनों कुत्‍तों का तबादला सुर्खियों में हैं । दरअसल ये पुलिस के खोजी कुत्‍ते हैं, जिनका ट्रांसफर सरकार की ओर से किया गया है, जिनमें से रेणु और सिकंदर नाम के दो कुत्तों की पोस्टिंग सतना और होशंगाबाद से भोपाल स्थित मुख्यमंत्री निवास में कर दी गई । खोजी कुत्तों के तबादलों के बाद से ही राज्‍य सरकार विवदों में आ गई है, सरकार ने कुल 46 खोजी कुत्तों का तबादला किया है ।

विपक्ष हमलावर
कुत्‍तों के तबादलों के बाद से ही राज्‍य में विपक्षी दल कमलनाथ सरकार पर हमलावर है । बीजेपीकी ओर से मामले में कहा गया है कि राज्‍य की कांग्रेस सरकार का तबादले के अलावा प्रदेश के हित के किसी भी अन्य विषय पर फोकस नहीं है । आपको बता दें एमपी पुलिस की 23 बटालियन के कमांडेंट की तरफ से जारी एक आदेश में पुलिस के 46 कुत्ते और उनके हैंडलर्स का तबादला किया गया है । आदेश में छिंदवाड़ा से मुख्यमंत्री कमलनाथ के घर पर तैनात “डफी” नामक खोजी कुत्ते का तबादला भी किया गया है । इसके अलावा रेणु और सिकंदर नाम के दो अन्य कुत्तों की भी सतना और होशंगाबाद से भोपाल स्थित मुख्यमंत्री निवास में पोस्टिंग की गई है ।

प्रदेश बीजेपी अध्‍यक्ष ने किया ट्वीट
मामले में प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष राकेश सिंह ने ट्वीट करते हुए सरकार पर निशाना साधा । सिंह ने ट्वीट किया – ‘‘अधिकारियों से अपेक्षाओं की पूर्ति न होना, तबादलों का ये आधार समझ में आता है । पर बेज़ुबानों से कौन सी अपेक्षाओं की पूर्ति होनी थी, जो ‘डॉग्स’ व ‘डॉग्स स्क्वाड’ का भी पांच-पांच सौ किमी दूर तबादला कर दिया । मप्र सरकार का तबादले के अलावा प्रदेश के हित के किसी भी अन्य विषय पर ‘फोकस’ नहीं है।‘ वहीं, प्रदेश बीजेपी उपाध्याक्ष विजेश लुनावत ने लिखा – ‘‘वाह री कमलनाथ सरकार तबादला उद्योग में कुत्तों को भी नही छोड़ा । मध्यप्रदेश में डॉग स्क्वाड के ट्रांसफर।’’

राजनीति करना बंद करे बीजेपी- कांग्रेस
वहीं मामले में विपक्ष की ओर से विवाद बढ़ने पर प्रदेश कांग्रेस मीडिया सेल के उपाध्यक्ष अभय दुबे ने प्रतिक्रिया दी । दुबे ने कहा – ‘‘मध्यप्रदेश में सत्ता जाने के बाद बीजेपी में इनती निराशा व्याप्त है कि वह पुलिस के डॉग्स पर भी राजनीति करने पर आमादा हैं । पुलिस विभाग में जो डॉग्स के हैडलर्स होते हैं, उनका तबादला होता है और वे डॉग (कुत्ते) के साथ जीवन पर्यन्त रहते हैं ।  अपराध के अनुसंधान में जब डॉग का उपयोग किया जाता है तो हैंडलर्स जो डॉग के साथ रहता है वह उसकी भाषा एवं संकेतों को समझा पाता है और एक ही हैंडलर एक डॉग के साथ धुला मिला रहता है । बीजेपी से अपेक्षा है कि वह रचनात्मक प्रतिपक्ष की भूमिका निभाये। निराशा में तथ्यहीन विषयों को मुद्दा बनाकर राजनीति करना बंद करे।’’