किसानों की जमीन कब्जाने के मामले में आजम खान की बढ़ी मुश्किलें, 8 नई शिकायतें दर्ज

लखनऊ। किसानों की जमीन कब्जाने के मामले में रामपुर से समाजावादी पार्टी के सांसद आजम खान की मुश्किलें दिन पर दिन बढ़ती जा रही हैं। जानकारी के मुताबिक उनके ऊपर पहले ही इस मामले से सम्बंधित 26 शिकायतें दर्ज हो चुकी थीं लेकिन अब खबर है कि सपा सांसद और उनके करीबियों पर फिर 8 नई शिकायतें दर्ज हुई है।

आज तक

@aajtak

आजम खान की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही हैं..@arvindojha https://aajtak.intoday.in/story/new-complaint-registered-against-azam-khan-farmers-land-grabbing-case-1-1104614.html 

आजम खान की मुश्किल बढ़ी, जमीन कब्जाने के मामले में 8 और शिकायत दर्ज

किसानों की जमीन कब्जाने के मामले में आजम खान के खिलाफ 26 मुकदमें पहले ही दायर हो चुके हैं. वहीं इस मामले में रामपुर पुलिस ने बुधवार को जज के सामने उन किसानों के बयान दर्ज करवाए, जिनकी जमीन जौहर…

aajtak.intoday.in

43 people are talking about this

इस मामले के मद्देनजर रामपुर पुलिस ने बुधवार (जून 24, 2019) को जज के सामने उन किसानों के बयान भी दर्ज करवाए हैं जिनकी जमीनें जौहर यूनिवर्सिटी बनाने के लिए कब्जाई गई। इन पीड़ित किसानों के बयानों को आज (जुलाई 25, 2019) न्यायधीश के सामने दर्ज करवाया जाएगा।

वहीं, बता दें जमीन कब्जाने के इस मामले में पीड़ित किसानों में से कुछ किसानों के परिवारवालों ने बीते रविवार को राजभवन पहुँचकर राज्यपाल से न्याय की गुहार लगाई थी। जिसके बाद राज्यपाल राम नाईक ने भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर जौहर यूनिवर्सिटी का अधिग्रहण करने की बात कही।

आज तक

@aajtak

यह उनका दूसरा पत्र है
(@arvindojha)https://aajtak.intoday.in/story/azam-khan-governor-up-cm-wrote-letter-jauhar-university-jauhar-trust-1-1104527.html 

आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी के लिए राज्यपाल राम नाईक ने CM योगी को फिर लिखा खत

फैसल लाला का कहना है कि यूनिवर्सिटी में 80 प्रतिशत जमीन सरकार और किसानों से कब्जाई गई है और 20 प्रतिशत जमीन चंदे के पैसे से खरीदी गई है. बावाजूद इसके वहां बच्चों से मोटी फीस वसूली जाती है. जिसकी कमाई…

aajtak.intoday.in

28 people are talking about this

उन्होंने अपने पत्र में उत्तर प्रदेश कॉन्ग्रेस कमेटी के अल्पसंख्यक विभाग के उपाध्यक्ष फैसल खान का जिक्र करते हुए कहा कि वे कई बार जौहर यूनिवर्सिटी में कई अनियमितताओं की शिकायत कर चुके हैं। इस मामले के मद्देनजर फैसल 8 जुलाई को राज्यपाल से भी मिले थे और उन्होंने राज्यपाल को एक ज्ञापन सौंपा था।

जिसमें उनका कहना था कि ‘यूनिवर्सिटी में 80 प्रतिशत जमीन सरकार और किसानों से कब्जाई गई है और 20 प्रतिशत जमीन चंदे के पैसे से खरीदी गई है। बावजूद इसके वहाँ बच्चों से मोटी फीस वसूली जाती है। जिसकी कमाई जौहर ट्रस्ट को जाती है और ये जौहर ट्रस्ट आजम खान के घर का निजी ट्रस्ट है।’

राज्यपाल राम नईक का पत्र

गौरतलब है कि फैसल लाला का ये भी कहना है कि जिस प्रकार एएमयू, जामिया और हैदराबाद यूनिवर्सिटी में मात्र 3 हजार में छात्र ग्रैजुएट और पचास हजार में इंजीनियर बन जाते हैं, ठीक उसकी प्रकार जौहर विश्वविद्यालय का अधिग्रहण कर लें तो अल्पसंख्यक समुदाय को इसका सीधा फायदा पहुँचेगा।