डोनाल्ड ट्रंप के बदले सुर, कहा- उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण से खतरा नहीं

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सुर बदल गए हैं. कभी उत्तर कोरिया के खिलाफ मोर्चा खोले रहने वाले ट्रंप ने उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण पर नरम रूख दिखाए हैं. उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने गुरुवार को अपनी निगरानी में कम दूरी की दो मिसाइलों का परीक्षण कराया था. इसे दक्षिण कोरिया के लिए चेतावनी माना जा रहा है. ट्रंप ने कहा है कि इससे अमेरिका को खतरा नहीं है.

पिछले कुछ समय से उत्तर कोरिया से रिश्ते सुधारने की दिशा में गंभीर नजर आ रहे ट्रंप ने कहा है कि उनका यह परीक्षण अमेरिका के लिए चेतावनी नहीं है. उन्होंने कहा कि उनके अपने विवाद हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि उत्तर और दक्षिण कोरिया ने सन 1950 से 1953 तक युद्ध लड़ा था. इसमें अमेरिका ने भी प्रमुख भूमिका निभाई थी.

उन्होंने कहा कि दोनों ही मिसाइलें कम दूरी की हैं, जो बहुत मानक है. यह अमेरिका के आसपास के किसी स्थान तक भी नहीं पहुंच सकतीं. इन मिसाइलों की रेंज में दक्षिण कोरिया और सीमा के नजदीक स्थित अमेरिका के सैनिक अड्डे हैं.

ट्रंप ने कहा कि किम के साथ उनके रिश्ते बहुत अच्छे हैं. हम देखेंगे कि क्या होता है. गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के साथ तीन बैठकें हो चुकी हैं. इन बैठकों का उद्देश्य उत्तर कोरिया को सैद्धांतिक रूप से परमाणु कार्यक्रम रोकने के लिए सहमत करना था. हालांकि ट्रंप और किम की तीनों ही मुलाकातें बेनतीजा रही हैं.

बता दें कि पहले डोनाल्ड ट्रंप किम जोंग के खिलाफ मोर्चा खोले रखते थे, तो किम जोंग अमेरिका और ट्रंप के खिलाफ हमलावर दिखते थे. किम ने एक बार अमेरिका को परमाणु हमले की चेतावनी भी दी थी.