कश्‍मीर में राष्ट्रध्वज या राष्ट्रीय प्रतीकों का अपमान अपराध नहीं होता, जानें वो वजहें, जिनसे है धारा 370 पर विवाद

नई दिल्‍ली। माना जा रहा है कि आज सुबह पीएम नरेंद्र मोदी के आवास पर होने वाली कैबिनेट बैठक में सरकार जम्‍मू-कश्‍मीर को लेकर अहम फ़ैसला ले सकती है. चर्चा है कि मोदी कैबिनेट कश्‍मीर को विशेष राज्‍य का दर्जा देने वाले अनुच्‍छेद 35A और 370 के बारे में कोई फैसला ले सकती है. कश्‍मीर में 35A, 370 खत्‍म करने की मांग भी जोरों से चल रही है. ऐसे में आइये जानते हैं कि धारा 370 पर विवाद क्यों है?

इन वजहों से है धारा 370 पर विवाद…

1. जम्मू-कश्मीर के नागरिकों के पास दोहरी नागरिकता, झंडा भी अलग है
2. J&K में राष्ट्रध्वज या राष्ट्रीय प्रतीकों का अपमान अपराध नहीं होता है
3. देश के सुप्रीम कोर्ट के सभी आदेश जम्मू-कश्मीर में मान्य नहीं होते हैं
4. संसद जम्मू-कश्मीर को लेकर सीमित क्षेत्र में ही कानून बना सकती है
4. रक्षा, विदेश, संचार छोड़कर केंद्र के कानून J&K पर लागू नहीं होते

6. वित्तीय आपातकाल के लिये संविधान की धारा 360 J&K पर लागू नहीं
7. धारा 356 लागू नहीं, राष्ट्रपति राज्य का संविधान बर्खास्त नहीं कर सकते
8. कश्मीर में हिन्दू-सिख अल्पसंख्यकों को 16% आरक्षण नहीं मिलता
9. जम्मू कश्मीर में 1976 का शहरी भूमि कानून लागू नहीं होता है.
10. धारा 370 की वजह से कश्मीर में RTI और RTE लागू नहीं होता. जम्मू-कश्मीर की विधानसभा का कार्यकाल 5 वर्ष नहीं, 6 वर्ष होता है.