भारत में इस्‍लाम आने के बाद छुआछूत का चलन शुरू हुआ: RSS नेता कृष्‍ण गोपाल

नई दिल्‍ली। राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (आरएसएस) के संयुक्‍त महासचिव कृष्‍ण गोपाल ने सोमवार को एक कार्यक्रम में कहा है कि भारत में इस्‍लाम के आने के बाद अस्‍पृश्‍यता या छुआछूत का चलन शुरू हुआ. इसके साथ ही उन्‍होंने यह भी कहा कि देश में दलित शब्‍द का इस्‍तेमाल अंग्रेजों के उस षड्यंत्र का हिस्‍सा था, जिसमें वे बांटो और राज करो की नीति अपनाते थे. दिल्‍ली में सोमवार को एक पुस्‍तक विमोचन के कार्यक्रम में पहुंचे आरएसएस नेता कृष्‍ण गोपाल ने कहा कि आरएसएस हमेशा जाति विहीन समाज का समर्थक रहा है.

उन्‍होंने कहा कि देश में छुआछूत के मामले का पहला उदाहरण इस्लाम के आने के बाद देखने को मिला था. यह तब देखने को मिला जब सिंध के अंतिम हिंदू राजा दहीर की रानियां जौहर (खुद को आग के हवाले करना) करने के लिए जा रही थीं. उन्‍होंने इस दौरान मलेच्‍छ शब्‍द का इस्‍तेमाल किया. राजा ने कहा कि रानियों को जौहर के लिए जल्‍दी करनी चाहिए, इससे पहले कि मलेच्‍छ आकर उन्‍हें छू लें और उन्‍हें अपवित्र कर दें. यही भारत में छुआछूत के चलन का पहला उदाहरण था.