13,500 करोड़ के घोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी के भारत प्रत्यर्पण का रास्ता हुआ साफ, जानें कैसे

न्यूयॉर्क। एंटिगुआ और बारबूडा के प्रधानमंत्री गेस्टन ब्राउन (Gaston Browne) ने कहा है कि पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) को भारत (India) तब प्रत्यर्पित कर दिया जाएगा, जब उसकी याचिकाओं का निपटारा हो जाएगा. ब्राउन ने भारत के सरकारी प्रसारणकर्ता डीडी न्यूज से कहा, “हम कानून को मानने वाले एक देश हैं, और मामला न्यायपालिका के समक्ष है.”

एंटिगुआ (Antigua) के प्रधानमंत्री ने चोकसी को धूर्त करार देते हुए कहा, “उसने (चोकसी) कई याचिकाएं दाखिल कर रखी हैं और जबतक उसकी याचिकाएं निपट नहीं जातीं, हम कुछ नहीं कर सकते.” उन्होंने कहा, “एंटिगुआ बारबूडा को उससे कोई लाभ नहीं है.” प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि भारतीय अधिकारी उससे पूछताछ करने के लिए स्वतंत्र हैं.

उल्लेखनीय है कि चोकसी और उसका भांजा नीरव मोदी साल भर पहले देश छोड़कर भाग गए थे. दोनों 13,500 करोड़ रुपये के पीएनबी धोखाधड़ी मामले में मुख्य आरोपी हैं. चोकसी को एंटिगुआ और बारबूडा ने इस साल के प्रारंभ में नागरिकता दे दी थी.