कोहली के लक से परेशान डु प्लेसिस ये क्या कह गए, हो गए ट्रोल

दक्षिण अफ्रीका के कप्तान फाफ डु प्लेसिस का मानना है कि अगर टेस्ट क्रिकेट में टॉस नहीं होता और उनकी टीम को बतौर बाहरी टीम पहले बल्लेबाजी करने का मौका मिलता तो फिर उनकी टीम भारत के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन कर सकती थी. दक्षिण अफ्रीका को हाल में भारत दौरे पर तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में 3-0 से शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा था. इनमें से दो में से तो उसे पारी की जबर्दस्त हार झेलनी पड़ी थी.

डु प्लेसिस के इस बयान पर क्रिकेट प्रशंसकों ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया है. क्रिकइंफो ने डु प्लेसिस के हवाले से लिखा, ‘हर टेस्ट मैच में वो टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला ले लेते थे और उसके बाद 500 रन बनाकर शाम को (अंधेरे में) पारी घोषित कर देते थे और शाम को जल्दी से तीन विकेट ले लेते थे. इस कारण अगली सुबह टीम दबाव में आ जाती थी. हर मैच में यही कहानी दुहराई जा रही थी.’

उन्होंने कहा, ‘यदि टेस्ट क्रिकेट से टॉस को हटा दिया जाए तो फिर विदेशी टीमों के पास अच्छा करने मौका होगा. दक्षिण अफ्रीका में हम हरी पिच पर खेलने को तैयार हैं.’

टॉस को लेकर दिए गए अपने इस बयान के बाद भारतीय प्रशंसकों ने डु प्लेसिस को सोशल मीडिया पर ट्रोल करना शुरू कर दिया है. उनका मानना है कि डु प्लेसिस का यह बयान केवल बहाना है.

Saurabh@Boomrah_

And if you thought Faf du Plessis was done with giving horrible excuses, you’re wrong. This guy won’t stop. Lmao. Ridiculous

View image on Twitter
173 people are talking about this

एक फैन ने लिखा, ‘और अगर आपको लगता है कि फाफ डु प्लेसिस भयानक बहाने देकर थक चुके हैं तो आप गलत हैं. यह आदमी नहीं रुकेगा.’

Mr. A 🏏@cricdrugs

This man simply don’t know how to accept the defeat.

View image on Twitter
See Mr. A 🏏‘s other Tweets

एक अन्य फैन ने कहा, ‘अगर टीम के कप्तान की ऐसी मानसिकता है तो फिर टीम कभी भी वापसी नहीं कर सकती है. आपने विश्व कप में देखा. आपने भारत में टेस्ट सीरीज में भी ऐसा ही देखा. फाफ को वह करने की जरूरत है जो कोहली ने दक्षिण अफ्रीका में दो टेस्ट मैच के बाद की थी.’

K Vijayendra@k_vijayendra8

Want to take a dig at Faf du Plessis but the CSK fan in me holding me back

See K Vijayendra’s other Tweets

एक अन्य फैन ने लिखा, ‘यह आदमी हार को स्वीकार करना नहीं जानता है.’