‘धरना और लड़ाई-झगड़े में केजरीवाल ने काट दिए 5 साल, मोहल्ला क्लीनिकों में लगा है कूड़े का ढेर’

कॉन्ग्रेस नेता अलका लाम्बा दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले कॉन्ग्रेस में लौट आईं। वो 2015 में आम आदमी पार्टी से विधायक बनी थीं लेकिन इस बार वो कॉन्ग्रेस से मैदान में उत्तरी हैं। अलका दिल्ली के चाँदनी चौक से चुनाव लड़ रही हैं। दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी भी आजकल इसी क्षेत्र की झुग्गियों में रात्रि प्रवास कर रहे हैं। पुरानी दिल्ली का दिल कहे जाने वाले इस इलाक़े में आम आदमी पार्टी मुफ्त बिजली-पानी योजना का प्रचार करने में लगी है। भाजपा नेता विजय गोयल भी यहाँ पूरा जोर लगा रहे हैं।

चाँदनी चौक का गणित इस बार कुछ ऐसा है कि आप और कॉन्ग्रेस के प्रत्याशी आपस में एक्सचेंज हो गए हैं। 2015 में कॉन्ग्रेस उम्मीदवार रहे प्रह्लाद साहनी इस बार आप से मैदान में हैं। अलका लाम्बा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली के सीएम ने लड़ाई करने और धरना देने में ही 5 साल गुजार दिए। उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली के मुखिया छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश का दौरा करते रहे लेकिन अपने राज्य पर ध्यान नहीं दिया।

आम आदमी पार्टी के नारे ‘अच्छे बीते 5 साल, लगे रहो केजरीवाल’ को अलका लाम्बा ने मजाक करार दिया। लाम्बा ने कहा कि बीते 5 साल लड़ाई-झगडे और कोर्ट-कचहरी में नज़र आने वाले केजरीवाल को अब बस भी करना चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार तो जामा मस्जिद के पास भूमाफियाओं से ज़मीन भी खाली नहीं करा पाई। अलका लाम्बा ने दावा किया कि जहाँ मोहल्ला क्लिनिक बनाए गए, वहाँ कूड़े का ढेर लगा हुआ है।

उन्होंने अपने विधानसभा क्षेत्र की बात करते हुए कहा कि वहाँ के 12 स्कूलों में से 9 बचे हैं। लाम्बा ने प्रदूषण के लिए भी आम आदमी पार्टी की सरकार को घेरा। अलका लम्बा ने पानी की किल्लत और ट्रैफिक जाम के लिए भी केजरीवाल सरकार को जिम्मेदार ठहराया।

उन्होंने कहा कि आप से व्यवस्था-परिवर्तन और स्वराज की बातें गायब हो चुकी हैं। चार बार विधायक रहे प्रह्लाद साहनी के बारे में अलका लाम्बा ने कहा कि जब वो कॉन्ग्रेस में थे, तब केजरीवाल उन्हें भ्रष्ट बताते थे। वहीं जब उन्होंने आम आदमी पार्टी ज्वाइन की, तब केजरीवाल ने उन्हें अपना उम्मीदवार बना लिया। लाम्बा ने कहा कि केजरीवाल एक इनसिक्योर और डरे हुए आदमी हैं। बकौल लाम्बा, केजरीवाल को जिससे भी चुनौती मिलती है उसे दूध में मक्खी की तरह उठा कर फेंक देते हैं।

उदाहरण के तौर पर लाम्बा ने कुमार विश्वास, योगेंद्र यादव, प्रशांत भूषण और आशुतोष का नाम गिनाया। लाम्बा ने चाँदनी चौक से जीत का दावा तो किया लेकिन वयोवृद्ध प्रह्लाद सिंह साहनी और भाजपा उम्मीदवार सुनाम कुमार गुप्ता के सामने उनकी राह आसान नहीं है। गुप्ता पिछले चुनाव में दूसरे नंबर पर रहे थे।