शाहीन बाग में कहाँ से आ रहा है दाना-पानी: आसिफ तूफानी ने उगल दिए सारे राज

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के ख़िलाफ़ दिल्ली के शाहीन बाग में करीब डेढ़ महीने से प्रदर्शन चल रहा है। इस प्रदर्शन ने कई सवाल पैदा किए हैं। इनके जवाब जानने में हरेक को दिलचस्पी है। मसलन, प्रदर्शन के लिए फंडिंग कौन कर रहा है? प्रदर्शनकारियों के खाने-पीने का इंतजाम कहाँ से हो रहा है? उनका खर्च कौन उठा रहा है? जिस तरह के वीडियो सामने आए हैं उससे यह भी सवाल पैदा हुआ है कि यह किसकी साजिश है? प्रदर्शनकारी किनके हाथों की कठपुतली हैं? मीडिया रिपोर्टों के अनुसार इस बात की जॉंच की जा रही है।

इन्हीं सवालों का जवाब तलाशने के क्रम में शाहीन बाग के कुछ प्रदर्शनकारियों से बात की। इस दौरान एक प्रदर्शनकारी ने जो खुलासे किए वह हैरान करने वाला था। असलम तूफानी नामक इस प्रदर्शनकारी के जवाब का वीडियो वायरल भी हो रहा है।

आसिफ तूफानी से जब पूछा कि आखिर इस प्रदर्शन के लिए पैसा कहाँ से आ रहा है? आसिफ ने जवाब दिया कि उसे ये सब मालूम नहीं है। लेकिन, उनके लिए ये सब अल्लाह कर रहे हैं और उन्हें मिलने वाली सब सुविधा कुदरती मदद है। वे अल्लाह के बंदे हैं और उन्हें इंसान ने पैदा नहीं किया। सब ऊपर वाले ने किया।

एबीपी की वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि रिपोर्टर आसिफ तूफानी की बात सुनकर उन्हें समझा रहे हैं कि लोग उनकी इस बात पर यकीन नहीं करेंगे कि प्रदर्शन के लिए अल्लाह पैसे भेजते हैं। लेकिन आसिफ फिर भी अपनी वही बात दोहराता है कि उसे कुछ नहीं मालूम, बस उनके लिए सब अल्लाह कर रहे हैं।

वीडियो में आसिफ को स्पष्ट तौर पर कहते सुना जा सकता है कि उन्हें कुदरती रूप से सारा सामान सुबह एक जगह पर रखा मिलता है और वो सिर्फ़ उसे उठाकर बाँटने का काम करते हैं। जिसे सुनकर पत्रकार कहते हैं कि वो उम्मीद करते हैं कि ऐसा चमत्कारी खाना उन सब लोगों को मिले। जिन्हें खाने की जरूरत हैं।

गौरतलब है कि एबीपी द्वारा शाहीन बाग प्रदर्शन की इस रिपोर्टिंग की 1.40 मिनट की यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर शेयर हो रही है। लोग ये कहकर मजाक उड़ा रहे हैं कि शाहीन बाग पर अब चमत्कार भी होने लगे। यूजर्स का कहना है कि अब बस देखना ये है कि अल्लाह आखिर कब तक इनका खर्चा अफॉर्ड करते हैं। कुछ गृह मंत्रालय और गृह मंत्री को टैग करके बता रहे हैं कि वे लोग भी देखें कि ये कुदरती सहायता कैसे आ रही है।