उद्धव ठाकरे ने किया नागरिकता कानून का समर्थन, लेकिन NRC को लेकर की ये बड़ी घोषणा

मुंबई। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने नागरिकता कानून (CAA) का समर्थन किया है. उनका कहना है कि CAA किसी की नागरिकता नहीं छीनता. लेकिन उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में NRC लागू नहीं होगा. शिवसेना सांसद संजय राऊत को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने ये बातें कहीं. उन्होंने कहा कि एन.आर.सी. कानून को महाराष्ट्र में लागू नहीं होने दिया जाएगा. हालांकि मुख्यमंत्री ने नागरिकता कानून पर नर्म रूख रखते हुए कहा कि यह कानून किसी भारतीय नागरिक की सिटीजनशिप नहीं छीनता है.

महाविकास अघाड़ी की सरकार के मुखिया उद्धव ठाकरे ने एक बार फिर हिंदुत्व का नारा बुलंद किया है. इंटरव्यू में उद्धव ठाकरे ने साफ कहा है कि शिवसेना ने हिंदुत्व की अपनी विचारधारा को छोड़ा नहीं है और ना ही उससे कोई समझौता किया है. सामना के संपादक संजय राउत को दिए इंटरव्यू में उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘हमने हिंदुत्व नहीं छोडा है, गठबंधन किया है इसका मतलब ये नहीं कि हमने धर्म बदल लिया है.’ यह इंटरव्यू आने वाली 3, 4 और 5 तारीख को सामना में प्रकाशित किया जाएगा.

बाल ठाकरे की विरासत अपनाने की होड़
आपको बता दें कि महाराष्ट्र की राजनीति में ‘हिंदू हृदय सम्राट’ कौन है इस सवाल पर एमएनएस (MNS) और शिवसेना (Shiv Sena) में लड़ाई शुरू हो गई है. एमएनएस जोर शोर के साथ हिंदूत्व की राजनीति पर अपना रही है. इस बीच महाराष्ट्र के ठाणे में एक पोस्टर लगा है जिसमें राज ठाकरे (Raj Thackeray) को ‘हिंदू हृदय सम्राट’ कहा गया है.

हिंदुत्व की राजनीति हथियाने की यह जंग 23 जनवरी को शुरू हुई थी जब एमएनएस ने नए झंडे, चिन्ह और नई विचारधारा के साथ नई शुरुआत की. मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने पार्टी के नए झंडे का अनावरण किया, जो गहरे भगवा रंग का है. इसके साथ छत्रपति शिवाजी महाराज के शासन की मुद्रा (रॉयल सील) को चिन्ह के तौर पर जारी किया गया. पार्टी का भव्य सम्मेलन गोरेगांव में एनएसई ग्राउंड में अयोजित किया गया.