हमेशा चर्चा में रहने का शौक था रंजीत बच्चन को

राजेश श्रीवास्तव
लखनऊ । लखनऊ के हजरतगंज में बदमाशों की गोली का शिकार हुए अंतरराष्ट्रीय हिदू महासभा के अध्यक्ष रणजीत उर्फ रंजीत बच्चन हर समय चर्चा में बने रहने की कोशिश करते थे। वर्ष 2००2 से 2००9 के बीच भूटान, बंगलादेश, नेपाल और बर्मा बार्डर तक 1.32 लाख किलोमीटर की साइकिल यात्रा कर काफी चर्चित हुए थे। साइकिल यात्रा के दौरान उनका जुड़ाव समाजवादी पार्टी से था। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के साथ ही खुद को वह हिदू नेता के तौर पर स्थापित करने में जुटे थे। हमेशा चर्चा और विवादों में रहना जैसा उनका शौक था। अभी कुछ वर्ष पूर्व ही उन्होंने इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में एक गोरखपुर के पत्रकार के साथ मिलकर कराया था एक कार्यक्रम, वह भी विवादों की भ्ोंट चढ़ गया था। अभी कुछ दिन पहले ही लखनऊ में रहने के दौरान ही रणजीत बच्चन चक्रपाणि महराज के संपर्क में आकर हिदू महासभा से जुड़ गए थे। बाद में उन्होंने विश्व हिदू महासभा का गठन कर खुद को अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया। खुद को हिदू नेता के तौर पर स्थापित करने के लिए उन्होने भगवा कपड़े पहनना शुरू कर दिया था। कुछ दिन पहले ही सीएए पर भड़काऊ बयान देकर काफी चर्चाओं में आए थे। उन्होंने बयान दिया था कि जो लोग सीएए का विरोध कर रहे हैं उन्हें पाकिस्तान चले जाना चाहिए।

1.32 लाख किलोमीटर साइकिल यात्रा कर चर्चित हुए थे रंजीत, सपा का कभी किया था प्रचार
भाजपा सरकार बनने पर चक्रपाणि महाराज के संपर्क में ओढ़ा था हिंदू नेता का चोला
बच्चन ने की थी तीन शादियां

मूल रूप से गोला क्षेत्र में अहिरौली गांव के लाला टोले के रहने वाले तारा लाल श्रीवास्तव के पुत्र रणजीत बच्चन चार भाइयों में सबसे छोटे थे। गोरखपुर में शाहपुर क्षेत्र के कृष्णानगर प्राइवेट कालोनी में बड़े भाई का घर है। गोरखपुर में उन्हीं के साथ रहते थे। गुलरिहा क्षेत्र के पतरका टोले में चार साल पहले उन्होंने जमीन खरीदा था। उस जमीन पर अनाथ आश्रम बनवाने की घोषणा की थी। उस समय तत्कालीन डीएम से इसका शिलान्यास भी कराया था, लेकिन बाद में प्रदेश से सपा सरकार की विदाई होने के बाद अनाथ आश्रम की जगह अतिथि भवन का निर्माण शुरू करा दिया।
वर्ष 2०13 में पत्नी कालिदी बच्चन के साथ छह माह तक प्रदेश में साइकिल यात्रा कर उन्होंने समाजवादी पार्टी का प्रचार भी किया था। इसके बदले अखिलेश यादव ने उन्हें और उनकी पत्नी को पांच-पांच लाख रुपये का पुरस्कार भी दिया था। बाद में तत्कालीन प्रदेश सरकार ने लखनऊ के हजरतगंज में उन्हें सरकारी आवास भी आवंटित किया था।
रणजीत बच्चन ने तीन शादियां की थी। पहली शादी काफी पहले परिवार के लोगों ने की थी। पहली पत्नी से एक बच्चा भी है। बाद में वर्ष 2००2 से 2००9 के बीच साइकिल यात्रा के दौरान उनके साथ रहीं कुशीनगर जिले की कालिदी शर्मा से उन्होंने दूसरी शादी कर ली। कुछ साल पहले लखनऊ में एक पीसीएस अधिकारी की बेटी निर्मला श्रीवास्तव से उन्होंने तीसरी शादी रचा ली। शुरू में कालिदी शर्मा और निर्मला श्रीवास्तव के बीच काफी विवाद हुआ था, लेकिन बाद में उनके बीच सहमति बन गई और साथ रहने लगीं।

साली ने दर्ज कराया है दुष्कर्म का मुकदमा

दूसरी पत्नी कालिदी शर्मा की बहन ने वर्ष 2०15 में शाहपुर थाने में रणजीत के विरुद्ध दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था। यह मामला अभी कोर्ट में लंबित चल रहा है।