नींद की दवा देकर गला दबा देना पापा, कारोबारी ने परिवार की हत्या कर दे दी जान, नोट में दिल चीर देने वाली बात

वाराणसी। वाराणसी में एक कारोबारी ने व्यापार में नुकसान और कर्ज से परेशान होकर पत्नी, बेटे और बेटी की हत्या कर दी, फिर इसके बाद खुद भी सुसाइड कर लिया, पुलिस के मुताबिक पूरा परिवार 23 दिन से सुसाइड करने की तैयारी कर रहा था, पुलिस ने मौके से नींद की गोलियां और 12 पेज का सुसाइड नोट बरामद किया है, जिसमें बेटे-बेटी के हवाले से लिखा है, कि हमें नींद की दवा खिलाकर सुला देना पापा, इसके बाद गला दबा देना।

पत्नी ने क्या लिखा
सुसाइड नोट में कारोबारी की पत्नी ने लिखा, 20 साल पहले जब शादी करके वाराणसी इस घर में आई, तो लगा कि खुशहाल परिवार में शादी हुई है, फिर बाद में पता चला कि पति को कम दिखने की लाइलाज बीमारी है, परिवार के सदस्यों का भी जिस तरह से सहयोग मिलना चाहिये था, कभी नहीं मिला।

पिता ने दरवाजा खोला

ये घटना वाराणसी के आदमपुर इलाके के नचनी कुंआ मोहल्ले की है, जहां कारोबारी चेतन तुलस्यान अपने परिवार के साथ रहते थे, कारोबारी चेतन ने सुबह 4 बजे डायल 112 पर फोन कर सूचना दी, कि वो परिवार के साथ जान देने जा रहे हैं, इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंचे, तो चेतन के पिता ने दरवाजा खोला, पुलिस के पूछने पर कहा कि घर में सबकुछ सामान्य है।

चेतन का दरवाजा नहीं खुला

चेतन के बारे में पूछने पर पिता रविन्द्रनाथ ऊपर गये, तो कमरे का दरवाजा नहीं खुला, इसके बाद उन्होने पुलिस को बताया, तो पुलिस वालों ने दरवाजा तोड़ दिया, तो देखा कि अंदर कमरे में बेड पर बेटा हर्ष और बेटी हिमांशी मृत पड़े थे, तो दूसरे कमरे में पत्नी ऋतु का शव बिस्तर पर था, और चेतन फंदे से लटक रहा था।

हड़कंप मच गया
दंपत्ति और दो बच्चों की मौत की सूचना मिलते ही इलाके में हड़कंप मच गया, थोड़ी ही देर में आईजी रेंज विजय सिंह मीणा एसएसपी प्रभाकर चौधरी और एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह मौके पर पहुंचे, फॉरेंसिक टीम को भी बुलाया गया। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि मौके पर सुसाइड नोट के साथ स्टैंप पेपर पर लिखा एफिडेविट मिला है, जिसे 22 जनवरी को बनवाया गया था, इस पर चेतन तुलस्यान की ओर से लिखा गया है, कि मरने के बाद उनकी पूरी संपत्ति गोरखपुर में रहने वाले उनके साले को दे दिया जाए, एफिडेविट से साफ है कि कारोबारी और उनके परिवार ने 23 दिन पहले ही मौत की पूरी तैयारी कर ली थी, फिलहाल सुसाइड नोट और एफिडेविट को फॉरेंसिक टीम ने अपने कब्जे में ले लिया है, और जांच जारी है।