दनादन दो हत्‍याओं से राजधानी लखनऊ में दहशत, दिनदहाड़े चीरा बीटेक के छात्र का सीना और पेट

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में गुरुवार को एक के बाद एक दो हत्‍याओं से सनसनी फैल गई। चौक में स्‍थ‍ित पान मसाला एजेंसी मेंं लूट और कर्मी की हत्‍या के बाद बेखौफ बदमाशों ने एक और वारदात को अंजाम दे डाला। गोमतीनगर में चाकू से गोदकर छात्र प्रशांत की हत्‍या कर दी। दो घटनाओं से राजधानी में दहशत फैल गई। पुल‍िस ने छात्र की हत्‍या में पांच संदिग्‍धों को हिरासत में ल‍िया हैैै।

गोमतीनगर के अलकनंदा अपार्टमेंट में हुई घटना

अपने जन्मदिन की पार्टी के लिए मुंहबोली बहन को लेने आए बीटेक छात्र की चाकुओं से गोदकर नृशंस हत्या कर दी गई। हत्यारों ने इनोवा कार का शीशा तोड़कर चाकुओं से बीटेक छात्र के सीने से पेट तक का हिस्सा चीर दिया। जान बचाने के लिए बुरी तरह घायल छात्र कार से उतरकर अपार्टमेंट की ओर भागा। वहां लिफ्ट के पास घायल छात्र गिर गया। सूचना मिलने पर पुलिस पहुंची और घायल छात्र को अस्पताल ले गई, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

घटना गुरुवार दोपहर करीब 3:39 बजे की है। मूल रूप से वाराणसी के बाबतपुर के गंगापुर का रहने वाला प्रशांत सिंह लखनऊ के बीबीडी कॉलेज में बीटेक तृतीय वर्ष का छात्र था। प्रशांत अपने मित्र आलोक के साथ लोहिया पार्क के सामने विजय खंड में किराये के मकान में रहता था। प्रशांत सिंह का जन्मदिन गुरुवार को था। अपने जन्मदिन की पार्टी के लिए वह मुंहबोली बहन को लेने गोमतीनगर विस्तार के अलखनंदा अपार्टमेंट आया था। यहां पहले से प्रशांत सिंह के आने का इंतजार कर रहे तीन युवकों ने अपार्टमेंट के भीतर प्रशांत सिंह की इनोवा कार रोक ली।

प्रशांत ने इनोवा का शीशा बंद कर रखा था। तीनों ने पहले इनोवा कार का शीशा पीछे से तोड़ा। प्रशांत चालक की बगल वाली सीट पर बैठा था। हमलावरों ने उस शीशे को भी तोड़ दिया और चाकुओं से प्रशांत पर कई वार किए। सीने में चाकू उतारकर उसे पेट तक गोद डाला। इस दौरान अपार्टमेंट के करीब 10 लोग कार के आसपास खड़े रहे। घटना को अंजाम देने के बाद हत्यारे वहां से भाग खड़े हुए। उनके जाने पर प्रशांत सिंह कार का शीशा खोलकर भागते हुए अपार्टमेंट के एम ब्लॉक में पहुंचा। अधिक खून बहने के कारण वह वहीं पर गश खाकर गिर गया। अपार्टमेंट के गार्ड की सूचना पर पुलिस पहुंची और प्रशांत को अस्पताल ले गई। जहां डॉक्टरों ने प्रशांत को मृत घोषित कर दिया।

आलोक की जन्मदिन की पार्टी का बदला तो नहीं 

प्रशांत जिस साथी आलोक के साथ विजय खंड में एक में रहता था, उसी आलोक का बुधवार को जन्मदिन था। आलोक के जन्मदिन की पार्टी सफेदाबाद स्थित एक होटल में हुई थी। इसी होटल में बीबीडी प्रथम वर्ष के छात्र अर्पण शुक्ल से विवाद हो गया था। विवाद का कारण प्रशांत सिंह को सीनियर होने के बाद भाई कहना बताया जा रहा है। पार्टी में सीनियर और जूनियर दो छात्र गुटों के बीच झड़प हुई। सीनियर छात्रों ने अर्पण पर कांच का गिलास मारकर तोड़ दिया था। इससे वह घायल हो गया था। अर्पण ने इसी पार्टी में प्रशांत सिंह से बदला लेने की चेतावनी दी थी। डीसीपी पूर्वी सोमेंद्र वर्मा ने बताया कि प्रथम दृष्टया बुधवार की पार्टी में विवाद का का बदला लेने की बात सामने आ रही है। इसमें बीबीडी के छात्र के अलावा दूसरे युवक भी शामिल हैं।

बाइक पर आए दर्जनभर युवक

प्रशांत सिंह की हत्या करने के लिए हमलावर बड़ी तैयारी से आए थे। बाइक सवार करीब एक दर्जन युवक अलकनंदा अपार्टमेंट के सामने दूसरी ओर खड़े हो गए। जबकि, लाल बुलेट पर सवार होकर तीन हमलावर अलकनंदा अपार्टमेंट के गेट पर पहुंचे। हमलावरों ने ड्यूटी पर तैनात गार्ड लक्ष्मण प्रसाद से कहा कि वह एम ब्लॉक में एक युवती की बर्थडे पार्टी में आए हैं। लक्ष्मण ने जब उनको रोककर इंटरकॉम से पता किया तो दूसरी ओर से बताया गया कि आज घर में कोई बर्थडे पार्टी नहीं है। इस पर लक्ष्मण और तीन अन्य सिक्योरिटी गार्ड अमन, बलबीर और सत्येंद्र ने उनको भीतर जाने देने से मना कर दिया। तीनों हमलावर गार्ड को गेट न खोलने पर उसे तोडऩे की धमकी देने लगे।

अपार्टमेंट में कार के पीछे से आए हमलावर

गेट पर तीनों हमलावर गार्डों से अभद्रता कर ही रहे थे कि अपार्टमेंट के पास लगी हुई एक कार वहां आ गई। गार्ड लक्ष्मण ने पहले बैरियर फिर गेट को उस कार के लिए खोल दिया। उसी कार के पीछे इनोवा में प्रशांत सिंह भी भीतर आ गया। दोनों कारों के पीछे तीनों हमलावर पैदल ही घुस गए। गेट से करीब 30 मीटर की दूरी पर जैसे ही प्रशांत सिंह की कार रुकी, तीनों ने हाथ से आगे वाले बाएं दरवाजे का शीशा तोड़कर हमला कर दिया।

आलोक ने भिजवाई थी कार 

जिस इनोवा कार से प्रशांत अलकनंदा अपार्टमेंट आया था, वह हुसैनगंज निवासी इरशाद की ट्रैवल एजेंसी की थी। इस कार को इरशाद का भाई साजिद चला रहा था। साजिद की बात आलोक से फोन पर हुई थी। बताया जा रहा है कि आलोक ने ही बुधवार को सफेदाबाद में हुई अपनी जन्मदिन पार्टी के लिए यह कार ट्रैवल एजेंसी से बुक कराई थी, जिसका कुछ भुगतान लेने के लिए साजिद ने आलोक को फोन किया था। आलोक ने ही साजिद को गोमतीनगर के लोहिया पार्क चौराहे से प्रशांत को लेकर अलकनंदा अपार्टमेंट लेकर जाने को कहा था।

तालियां बजाकर खुशी मनाई फिर भागे हत्यारे 

प्रशांत सिंह पर ताबड़तोड़ चाकुओं से हमला करने के बाद तीनों हमलावर तालियां बजाते हुए बाहर निकले। तीनों को बाहर निकलते देखकर उनके साथी अपनी बाइक स्टार्ट कर वहां से भाग निकले। जबकि, बुलेट पर तीनों हमलावर भागे।

गेट का सीसीटीवी खराब

इस घटना ने एक बार फिर अपार्टमेंट की सुरक्षा के दावों की पोल खोली। अपार्टमेंट के मेन गेट पर लगा सीसीसीटीवी ही खराब पड़ा है। यह सीसीटीवी गेट पर स्थित दुकान में लगा है। यदि सीसीटीवी काम कर रहा होता तो हमलावरों को आसानी से पहचाना जा सकता था।

फॉरेंसिंक टीम ने जुटाए साक्ष्य

एम ब्लॉक में नीचे जिस जगह प्रशांत सिंह गश खाकर गिरा था, वहां का नजारा बहुत वीभत्स था। हर तरफ खून फैला था। अपार्टमेंट से कुछ दूरी से ही प्रशांत का खून बहता रहा। अस्पताल ले जाते हुए खून से सने उसके जूतों के निशान भी यहां पड़े हैं।

आने की हुई थी सटीक मुखबिरी 

प्रशांत जिस समय अलकनंदा अपार्टमेंट में अपनी मुंहबोली बहन से मिलने आने वाला है, उसकी सटीक सूचना हमलावरों को थी। पुलिस मान रही है कि प्रशांत के अलकनंदा आने की सूचना आपस के ही छात्रों ने दूसरे ग्रुप को दी थी। अब पुलिस प्रशांत के साथ आलोक और दूसरे छात्र गुटों के मोबाइल नंबरों से डिटेल खंगाल रही है।

चौक में पान मसाला व्‍यापारी के कर्मी की हत्‍या 

चौक थाना क्षेत्र के नादान महल रोड पर राम निवास सुनील कुमार की पान मसाले की एजेंसी पर दिन दहाड़े गोली चल गई। दोपहर दो बजे के करीब दुकान पर कर्मचारी सुभाष बैठा हुआ था। अचानक ही वहां दो बाइक सेे चार बदमाश आ गए और सुभाष से पैसों भरा बैग छीनने लगे। सुभाष ने विरोध किया तो बदमाशों ने उस पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दी और बैग लेकर मौके से फरार हो गए।