हैदराबाद: शाहीन बाग की तरह किया प्रदर्शन, यूनिवर्सिटी ने छात्रों पर लगाया जुर्माना

हैदराबाद। हैदराबाद विश्वविद्यालय में तीन छात्रों पर नागरिकता कानून का विरोध करना भारी पड़ गया. विश्वविद्यालय प्रशासन ने तीनों छात्रों पर पांच-पांच हजार रुपये का जुर्माना लगाया है. दरअसल इन तीनों छात्रों ने संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में परिसर के भीतर रात नौ बजे के बाद ‘शाहीन बाग नाइट’ का आयोजन किया था. जिसके बाद उनपर यह जुर्माना लगाया गया है. हालांकि छात्र संघ ने इस फैसले की आलोचना की है.

विश्वविद्यालय सूत्रों ने इस बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि छात्रों ने 31 जनवरी को रात नौ बजे के बाद नॉर्थ शॉपिंग कॉम्पलेक्स में यह आयोजन किया था और वहां की दीवारों को भी कथित रूप से खराब कर दिया था. इसलिए 18 फरवरी को इस संबंध में विश्वविद्यालय ने एक आदेश जारी करते हुए फसीह अहमद, सहाना प्रदीप और एएस एडिस्फो पर यह जुर्माना लगाया है. तीनों छात्रों को 10 दिनों के अंदर यह जुर्माना भरना है.

आदेश में कहा गया है, ”छात्रों को कड़ी चेतावनी दी जाती है कि वे सचेत रहें और भविष्य में अपनी शिक्षा पर ध्यान दें. ऐसी घटनाओं को दोहराने या अनुशासनहीनता में लिप्त पाए जाने पर, उनके शैक्षणिक करियर पर बेहद खराब प्रभाव होगा और उनके खिलाफ कठोर अनुशासनात्मक कार्रवाई भी की जा सकती है.”

विश्वविद्यालय का कहना है कि छात्रों ने एक तो बिना अनुमति इस तरह के प्रदर्शन का आयोजन किया, इसके अलावा यह 11 बजे रात के बाद भी चलता रहा, जो सीधे-सीधे विश्वविद्यालय परिसर के नियमों का उल्लंघन है.

वहीं छात्र संघ ने विश्वविद्यालय के कदम का विरोध करते हुए छात्रों पर लगे जुर्माने को बिना शर्त वापस लेने की मांग की है. छात्र संघ ने एक बयान में कहा कि यह आदेश या सर्कुलर छात्रों की आवाज को दबाने की कोशिश है. जिसे हम हरगिज कामयाब नहीं होने देंगे.