सीएए पर फिर उबला अलीगढ़, अगले 24 घंटों के लिए इंटरनेट सेवा बंद

अलीगढ़। दिल्ली के शाहीनबाग में सीएए (नागरिकता संशोधन कानून) और एनआरसी (राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर) के खिलाफ दो महीने से ज्यादा समय से प्रदर्शन चल रहा है. वहीं शनिवार रात से ठीक उसी तर्ज पर जाफराबाद में भी प्रदर्शन शुरू हो गया है. इधर उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में भी मामला बिगड़ गया है. यहां भी सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है.

हालांकि रविवार को मामला तब बिगड़ गया जब कुछ लोगों ने ऊपरकोट कोतवाली पर पथराव किया, जिसके बाद पुलिस ने हमलावरों को वहां से हटाने के लिए लाठीचार्ज किया और आंसूगैस के गोले भी दागे. फिलहाल अलीगढ़ में अगले 24 घंटों के लिए इंटरनेट सेवा बाधित कर दी गई है.

इस बारे में अलीगढ़ के जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह ने कहा कि सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों ने सड़क को पूरी तरह से बंद कर दिया था. पुलिस प्रशासन सड़क को खुलवाने की कोशिश कर रही थी. तभी कुछ अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की छात्राओं ने उन्हें आक्रोशित किया. जिसके बाद लोगों ने पुलिस के ऊपर पत्थरबाजी शुरू कर दी.

ANI UP

@ANINewsUP

Aligarh DM: Some women students from Aligarh Muslim University (AMU) are behind this,we are trying to identify them. We are ascertaining the damage caused by rioters&it will be recovered from them. Situation is under control now. https://twitter.com/ANINewsUP/status/1231563778317094913 

ANI UP

@ANINewsUP

Aligarh: People protesting against Citizenship Amendment Act pelted stones at Police vehicles&tried set a transformer ablaze near Jama Masjid. Chandrabhushan Singh, Aligarh DM says,”Protestors pelted stones at Police vehicles so Police had to resort to teargas to disperse them.”

View image on Twitter
View image on Twitter
View image on Twitter
View image on Twitter
349 people are talking about this

पुलिस ने उन्हें नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े. फिलहाल माहौल शांत है. हम लोग घटना की जांच कर रहे हैं. इससे पहले शनिवार को भी महिला प्रदर्शनकारी, नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए ऊपरकोट कोतवाली पहुंच गई थी, जिसके बाद वहां पर सुरक्षा के मद्देनजर भारी तादाद में पुलिस फोर्स की तैनाती की गई है. बता दें, शाहजमाल में 29 जनवरी से इस कानून के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है. यहां 50 से 60 महिलाएं धरने पर बैठी हैं.