ट्रंप के भारत आने से पहले दिल्ली को ‘बंधक’ बनाने की साजिश, पत्थरबाजी संयोग या प्रयोग?

नई दिल्ली। नागरिकता कानून के खिलाफ दिल्ली में एक बार फिर से उग्र प्रदर्शन शुरू हो गया है. रविवार को दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में नागरिकता कानून के समर्थक और विरोधियों के बीच पत्थरबाजी हुई है. दिल्ली में नागरिकता कानून के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन ऐसे वक्त हो रहा है, जब डोनाल्ड ट्रंप भारत आ रहे हैं. ट्रंप के सामने कहीं न कहीं भारत को बदनाम करने की साजिश हो रही है.

दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले 71 दिनों से नागरिकता कानून और एनआरसी के विरोध में विरोध प्रदर्शन हो रहा है. प्रदर्शनकारी सड़क घेरकर प्रदर्शन कर रहे हैं. रविवार को शाहीन बाग की सड़क खुलवाने के लिए लोगों ने प्रदर्शन किया. शाहीन बाग में प्रदर्शन के कारण पहले से ही दिल्ली, नोएडा और फरीदाबाद के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. अब दिल्ली के चांदबाग, जाफराबाद, दुर्गापुरी और मौजपुर में भी दिल्ली को बंधक बनाने की साजिश रची जा रही है. पुलिस सूत्रों के मुताबिक प्रदर्शनों में तेजी सोची समझी रणनीति का हिस्सा है.

सवाल है कि क्या अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के आने से पहले विरोध तेज कर अंतर्राष्ट्रीय मंच पर भारत की छवि को बदनाम करने की कोशिश हो रही है? कल सुप्रीम कोर्ट में शाहीन बाग पर सुनवाई है, क्या इसकी वजह से प्रदर्शनों में तेजी आई है. सवाल यह भी है कि क्या शाहीन बाग पर ‘संवाद’ का जवाब जाफराबाद है?

दिल्ली को बंधक बनाने की साजिश?
दिल्ली के मौजपुर इलाके में नागरिकता कानून के समर्थक और विरोधियों के बीच हिंसक झड़प हुई. दोनों तरफ से जमकर पत्थरबाजी हुई है. हालात को काबू में करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े. नागरिकता कानून के समर्थकों ने यहां जय श्री राम के नारे लगाए. मौजपुर के अलावा दिल्ली के चांद बाग में भी CAA और NRC के विरोध में प्रदर्शन शुरू हो गया. दिल्ली के दुर्गापुरी इलाके में भी CAA विरोधियों ने पत्थरबाजी की.

शाहीन बाग की तर्ज पर दिल्ली के ही जाफराबाद में भी साज़िश को अंजाम देने की कोशिश की गई है. बीती रात कई मुस्लिम महिलाएं और अपने बच्चों के साथ सड़क घेरकर बैठ गईं. CAA, NRC के विरोध में इन महिलाओं ने सड़क के एक हिस्से पर कब्जा कर लिया. जफराबाद में करीब 5000 से 6000 लोग सड़क पर मौजूद हैं. इन प्रदर्शनकारियों की मांग है कि जब तक कानून वापस नहीं होता तब तक प्रोटेस्ट जारी रहेगा.
CAA को लेकर जारी प्रदर्शनों की वजह से दिल्ली के आसपास की सड़कों पर लंबा जाम लग गया.