CAA विरोधी दंगों में बलिदानी हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल की पत्नी को अमित शाह ने लिखा संवेदना पत्र

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में CAA विरोधियों द्वारा शुरू की गई हिंसा के बीच सोमवार को दंगाइयों की पत्थरबाजी और गोली का निशाना बने दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल की मृत्यु हो गई थी। इसके बाद केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हेड कॉन्स्टेबल मृतक रतन लाल की मृत्यु पर गहरी संवेदना व्यक्त की है और श्रद्धांजलि व्यक्त की है।

अमित शाह ने दिल्ली हिंसा में मृतक रतन लाल की पत्नी पूनम देवी को मंगलवार (फरवरी 25, 2020) को लिखे पत्र में संवेदना व्यक्त की। उन्होंने पत्र में लिखा है कि रतन लाल एक बहादुर एवं कर्तव्यनिष्ठ पुलिसकर्मी थे, जिन्होंने कठिन चुनौतियों का सामना किया और एक सच्चे सिपाही की तरह उन्होंने देश की सेवा में अपने जीवन का सर्वोच्च बलिदान दिया है।

ANI

@ANI

Home Minister Amit Shah writes a letter to wife of Delhi Police Head Constable Ratan Lal, who died during clashes over Citizenship Amendment Act in Northeast Delhi, yesterday. He writes, “I express grief & deep condolences on untimely death of your husband”.

View image on Twitter
415 people are talking about this

गौरतलब है कि सोमवार को पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में इस्लामिक पत्थरबाजों ने नागरिकता कानून के विरोध के बहाने गोलियाँ, पत्थरबाजी और आगजनी जैसी घटनाओं को अंजाम दिया। इस बीच एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया गया जिसमें हाथ में बन्दूक लिए लाल कमीज पहने मोहम्मद शाहरु को एक के बाद एक कई राउंड फायरिंग करते हुए देखा गया।

दिन भर चली पत्थरबाजी और फायरिंग के नाटक के बीच एक पुलिसकर्मी रतन लाल को अपनी जान गँवानी पड़ी और एक पुलिस अधिकारी को गंभीर हालातों में अस्पताल भर्ती किया गया।

मंगलवार को भी नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के कर्दमपुरी में हिंसा भड़क गई है। वहाँ गोलीबारी भी हुई है। गोलीबारी की सूचना मिलते ही अर्धसैनिक बलों को वहाँ के लिए रवाना कर दिया गया है। वहीं खजूरी ख़ास क्षेत्र में पत्थरबाजी फिर से तेज़ हो गई है। करावल नगर की तरफ़ जाने वाले रास्तों को बंद कर दिया गया है। खजूरी ख़ास में लगातार तीसरे दिन हिंसा भड़की है और वहाँ पुलिस की उपस्थिति भी नगण्य है, जिससे दंगाई खुलेआम तांडव कर रहे हैं। वहाँ कई घरों को जलाए जाने की ख़बरें भी आ रही हैं

नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में एक पत्रकार को भी गोली मारने की ख़बर आई है। अभी इस बारे में और सूचना आनी बाकी है। वहीं शाहीन बाग़ के उपद्रवियों ने शांति बनाए रखने की अपील की है। इन्हीं उपद्रवियों का आधिकारिक सोशल मीडिया पेज झूठे अफवाह फैला रहा था। सोमवार की रात भजनपुरा-यमुना विहार में दंगाइयों ने हिंसा की एक के बाद एक वारदातों को अंजाम दिया। एनडीटीवी की पत्रकार निधि राजदान ने दावा किया है कि टीवी चैनल के दो पत्रकारों की पिटाई की गई है।