अमेरिका में अब बाइडेन राज, 5 लाख भारतीयों को मिलेगा नागरिकता का लाभ!

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति के चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप को मात देने वाले जो बाइडेन एक करोड़ से ज्यादा अप्रवासियों को अमेरिकी नागरिकता देने वाले हैं. बाइडेन जिन 1.1 करोड़ अप्रवासी लोगों को नागरिकता देने की दिशा में रोडमैप बनाने के लिए काम करेंगे, उनमें पांच लाख भारतीय शामिल हैं. इस प्लान के मुताबिक हर साल 95,000 लोगों को अमेरिकी नागरिकता प्रदान की जाएगी.

बाइडेन के चुनाव प्रचार के दौरान जारी दस्तावेज के मुताबिक वह तुरंत अपने सिस्टम को आधुनिक बनाने वाले विधायी आव्रजन सुधार को पारित करने के लिए कांग्रेस के साथ काम करना शुरू कर देंगे. इसमें 1.1 करोड़ अनिर्दिष्ट अप्रवासियों के लिए नागरिकता का रोडमैप तैयार करना शामिल है. इन अप्रवासियों में पांच लाभ भारतीय शामिल हैं जिन्हें इसका लाभ मिलेगा.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक डेमोक्रेट्स के चुनावी दस्तावेज में कहा गया है कि बाइडेन प्रशासन परिवार-आधारित आप्रवासन का समर्थन करेगा और अमेरिका के आव्रजन प्रणाली के मूल सिद्धांत के रूप में परिवार के एकीकरण को संरक्षित करेगा, जिसमें परिवार वीजा बैकलॉग को कम करना शामिल है.

पॉलिसी डॉक्यूमेट में कहा गया है कि बाइडेन अमेरिका आने वाले शरणार्थियों का स्वागत करते हैं. नई नीति के बाद अमेरिका आने वाले वार्षिक वैश्विक शरणार्थियों की संख्या 1.25 लाख निर्धारित की जाएगी. पॉलिसी डॉक्यूमेंट के अनुसार यह हमारे मूल्यों और अभूतपूर्व वैश्विक आवश्यकता के अनुरूप होगा. बाइडेन सालाना 95,000 शरणार्थियों की न्यूनतम प्रवेश संख्या तय करने के लिए कांग्रेस के साथ भी काम करेंगे.

इससे पहले, बाइडेन ने डेलावेयर के विल्मिंगटन में अपने इलेक्शन कैम्पेन मुख्यालय से देश को संबोधित किया. बाइडेन ने कहा कि अमेरिका में हमारे पास मजबूत विचार हैं तो मजबूत असहमतियां भी हैं. मजबूत असहमतियां लोकतंत्र में जरूरी हैं. हमें याद रखना है कि हमारी राजनीति बेदर्द, खत्म नहीं होने वाली लड़ाई नहीं है. हमारी राजनीति का मकसद देश के लिए काम करना है. आपसी टकरावों को हवा देना नहीं है. हमारा मकसद समस्याओं को सुलझाने का रास्ता तलाशना है. न्याय की गारंटी देना है. सबको समान अधिकार देना है. हमें अपने लोगों के जीवन स्तर में सुधार करना है. हम प्रतिद्वंद्वी हो सकते हैं- लेकिन हम दुश्मन नहीं हैं. हम अमेरिकी हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *