बंगाल से केंद्र सरकार का पैसा भेजा गया बांग्लादेश: TMC नेता समसुल अरफिन ने रची थी साजिश, बनवाए थे फर्जी जॉब कार्ड

पश्चिम बंगाल के मुस्लिम बहुल जिले मुर्शिदाबाद में महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम 2005 (मनरेगा) योजना में धाँधली की खबर सामने आई है। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक प्रशासन द्वारा जारी आंतरिक जाँच में पता चला है कि स्थानीय टीएमसी नेता ने मनरेगा स्कीम को चूना लगाते हुए अपने बांग्लादेशी रिश्तेदारों को 7 लाख रुपए भेजा।

आरोपित टीएमसी नेता और नाबाग्राम ब्लॉक में गुरपशला ग्राम पंचायत के उप प्रमुख समसुल अरफिन ने मनरेगा से पैसा इकट्ठा करने के लिए अपने रिश्तेदारों के नाम से फर्जी जॉब कार्ड बनवाए थे। कथित तौर पर, अरफिन ने समान लाभार्थियों के नाम के वेरिएंट का उपयोग करके नकली जॉब कार्ड बनाए और एटीएम कार्ड का उपयोग करके बैंकों और डाकघरों से पैसे निकाले। हिंदुस्तान की रिपोर्ट के अनुसार, उसने धोखाधड़ी से प्राप्त धन अपने रिश्तेदारों को ट्रांसफर कर दिया, जिनमें से 13 बांग्लादेशी नागरिक हैं।

लिखित शिकायत के बाद, एक पूर्व खंड विकास अधिकारी (नबाग्राम) ने आंतरिक जाँच की और पाया कि गुरपशला ग्राम पंचायत के उप प्रमुख और अन्य कर्मचारी सदस्य धन के दुरुपयोग में शामिल थे। पूर्व बीडीओ ने अरफिन और अन्य के खिलाफ शिकायत दर्ज की। जिसके बाद दिसंबर 2019 में नबाग्राम पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज की गई थी।

वर्तमान बीडीओ पंकज दास के अनुसार भारती दंड संहिता की धारा 34, 406, 409, 420 और 486 के तहत मामला दर्ज किया गया। अधिकारियों ने कहा कि प्राथमिकी दर्ज होने के बाद, अरफिन ने अग्रिम जमानत के लिए कलकत्ता उच्च न्यायालय का रुख किया। अदालत ने याचिका खारिज कर दी, लेकिन आरोपित अरफिन को गिरफ्तार नहीं किया गया। एक पुलिस अधिकारी ने गिरफ्तारी का आश्वासन देते हुए माना कि कुछ कर्मचारियों की मदद से अरफिन ने सरकारी धन का गबन किया।

मामले पर राजनीतिक प्रतिक्रियाएँ

मामले के बारे में बात करते हुए, TMC के प्रवक्ता अपूर्वा सरकार ने कहा, “अगर उप प्रमुख सरकारी धन के कथित गबन में शामिल है, तो प्रशासन को उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का अधिकार है। हम उसमें ढाल नहीं बनेंगे। ”

बांग्लादेशियों को लाभ पहुँचाने के लिए सरकारी धन के दुरुपयोग पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, कॉन्ग्रेस अध्यक्ष मीर बादाम अली ने कहा, “कुछ कर्मचारियों की मदद से अरफिन ने सरकारी धन का गबन किया। कुछ लाभार्थी नाबालिग भी हैं। टीएमसी नेता ने बांग्लादेशी नागरिकों को केंद्र सरकार की एक परियोजना से पैसा बनाने में मदद की।”

चक्रवाती तूफान अम्फान के मुआवजे में भ्रष्टाचार

गौरतलब है कि इस साल जून में पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान अम्फान के दौरान दिए जाने वाले मुआवजे में भी टीएमसी नेताओं पर बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा था, जिसके बाद सीएम ममता बनर्जी को मजबूरन जाँच का आदेश देना पड़ा।

राज्य सरकार ने उन 5 लाख पीड़ितों में से हर एक को, जिनके घर नष्ट हो गए थे, 20000 रुपए देने की घोषणा की थी। लेकिन सीएम के पास 2000 से अधिक शिकायतें भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए दर्ज की गई थीं।

कई टीएमसी ग्राम पंचायत सदस्यों और उनके रिश्तेदारों, जिनके पास पक्के मकान थे और उन्हें कोई नुकसान नहीं हुआ था, उन्हें राहत राशि मिली थी, जबकि जो वाकई में पीड़ित थे, उन्हें इसका लाभ नहीं मिला। कुछ TMC नेताओं ने बिना किसी नुकसान के भी इसका लाभ उठाया और इसे यह कहते हुए जायज ठहराया कि राहत नागरिकों के बीच वितरण के लिए है, इसीलिए उन्होंने भी इसका लाभ उठाया। कई आरोपों के बाद राज्य सरकार ने जाँच का आदेश दिया था। बाद में, उच्च न्यायालय ने CAG से मामले की जाँच करने को कहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *