कठुआ: यौन उत्पीड़न के गंभीर आरोपों के बाद अवैध अनाथ आश्रम से छुड़ाए गए 12 लड़के, 8 लड़कियां

जम्मू। वैध या अवैध रूप से चल रहे शेल्टर होम्स और अनाथ आश्रमों से जुड़े विवाद थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. ताज़ा मामले में जम्मू के कठुआ ज़िला प्रशासन ने एक अवैध रूप से चल रहे अनाथ आश्रम पर छापेमारी कर वहां बंद 20 बच्चों को छुड़ाया. छुड़ाए गए बच्चो में 8 लड़कियां भी शामिल हैं और अब पुलिस इस मामले की जांच कर रही है.

बच्चों ने की यौन उत्पीड़न की शिकायत
जम्मू के कठुआ ज़िले के वार्ड नंबर- 14 में अवैध रूप से चल रहे मकान नुमा अनाथआश्रम पर पुलिस और प्रशासन की साझा टीम ने तब दबिश दी जब इस आश्रम में रह रहे बच्चों ने उनके साथ यौन उत्पीड़न की शिकायत लोगों से की. इन शिकायतों की जांच के लिये कठुआ के असिस्टेंट कमिश्नर रेवेणु और पुलिस की टीम ने जब इस आश्रम के दस्तावेज इसके कर्ता-धर्ता फादर एंथोनी से मांगे तो वो किसी तरह के दस्तावेज पेश नहीं कर सके. इसके बाद पुलिस ने उन्हें पूछताछ के लिए हिरासत में लिया.

पादरी पर यौन शोषण के गंभीर
इस आश्रम से 12 लड़को और 8 लड़कियों को छुड़ाया गया है. प्रशासन का दावा है कि उनके पास जो भी शिकायतें आई हैं, उनकी जांच हो रही है. छापे के बाद 7 से 16 साल की आठ बच्चियों और 12 लड़कों को बाल आश्रम और नारी निकेतन शिफ्ट कर दिया गया है. बच्चों ने पादरी पर उनका यौन शोषण करने के गंभीर आरोप लगाए हैं.

गरीब परिवारों के हैं सभी बच्चे
ये सभी बच्चे गरीब परिवारों से हैं और पंजाब, हिमाचल, जम्मू-कश्मीर के विभिन्न इलाकों से आकर कठुआ की इस इमारत में रह रहे थे. जिला उपायुक्त रोहित खजूरिया ने बताया कि मामला संज्ञान में आने के बाद जिला पुलिस प्रमुख से बात कर अधिकारियों की टीम को जांच के लिए भेजा गया था. मामले में जो भी आरोप लगे हैं, उस पर पुलिस कार्रवाई करेगी.

देश भर से सामने आ रहे ऐसे मामले
आपको बता दें कि ऐसा पहला मामला बिहार के मुजफ्फरपुर से आया था जहां करीब दो दर्जन लड़कियों के साथ रेप की बात सामने आई थी. इस मामले में शेल्टर होम चला रहे ब्रजेश सिंह पर बेहद संगीन आरोप लगे हैं. वहीं, मुजफ्फरपुर के बाद देवरिया से ऐसे ही एक और मामले के प्रकाश में आने के बाद से देश भर में शेल्टर होम और आनथालयों की पोल खुल रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *