कन्नौज से चुनाव लड़ने का एलान कर चुके अखिलेश के लिए चाचा शिवपाल बन सकते हैं बड़ी मुसीबत, कन्नौज सीट पर शिवपाल कारहा है वर्चस्व

लखनऊ। शिवपाल यादव के समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के गठन के बाद आने वाला 2019 का चुनाव और भी दिलचस्प होने वाला है. ऐसे में कन्नौज लोकसभा सीट की बात की जाये तो बता दें कि ये सीट समाजवादियों का गढ़ रही है. अखिलेश यादव पहले ही कन्नौज से चुनाव लड़ने का एलान कर चुके हैं वहीं इस सीट पर शिवपाल सिंह यादव भी सेंध लगाने की रणनीति में जुटे हैं. कन्नौज संसदीय सीट पर शिवपाल सिंह यादव का भी वर्चस्व रहा है और बड़ी संख्या में वहां के गणमान्य,नेता और कार्यकर्ता उन्हें जानते हैं.

इन सबके बीच कन्नौज की जनता का मूड कुछ और ही है. दरअसल कन्नौज की जनता में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और सेक्युलर मोर्चा के संयोजक शिवपाल सिंह यादव से ज्यादा वर्चस्व मुलायम सिंह यादव का है. मुलायम सिंह यादव जिसका साथ देंगे जनता उनके साथ खड़ी होगी.

कन्नौज में ओबीसी वोटरों की संख्या सबसे अधिक है. जिसमें सबसे ज्यादा वोटर यादव और दूसरे नंबर पर कुर्मी समाज के वोटर हैं. इसके बाद एसटी/एससी और मुस्लिम वोटर हैं. सपा जिलाध्यक्ष मुन्ना दरोगा के मुताबिक समाजवादी सेक्युलर मोर्चा भी यहां से लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी में है. ऐसी सुगबुगाहट है लेकिन सेक्युलर मोर्चे के चुनाव लड़ने पर यहां कोई असर नहीं पड़ने वाला है. इसके पीछे सबसे बड़ी वजह है नेता मुलायम सिंह यादव. कन्नौज की जनता मुलायम सिंह को अपना नेता मानती है और वो समाजवादी पार्टी के साथ हैं. नेता जी जिसका साथ देंगे उसका यहां से जीतना तय है.

कन्नौज लोकसभा सीट समाजवादी पार्टी की कर्मभूमि रही है. इस सीट पर सेंध लगाना इतना आसान नहीं है, रही बात सेक्युलर मोर्चे की तो जो उनके कार्यकर्ता थे उनको लेकर वो अलग हो चुके हैं. जब से सेक्युलर मोर्च का गठन हुआ एक भी सपा का नेता या कार्यकर्ता इस बात का एलान करते हुए कि मैं सेक्युलर मोर्चे में शामिल हो रहा हूं अभी तक सामने नहीं आया है.

कुछ विपक्षी दल सेक्युलर मोर्चे को साध कर समाजवादी पार्टी को कमजोर करने की रणनीति कर रहे हैं. लेकिन कन्नौज में हमारा एक-एक कार्यकर्ता बहुत मजबूत है, हमने इस तरह से यहां की जमीन तैयार की है कि अन्य दल पैर नहीं जमा सकते हैं. विधानसभा चुनाव 2017 में कन्नौज की तीन विधानसभा सीटों में दो पर बीजेपी ने कब्ज़ा जमाया था और एक सीट ही हमारे हाथ लगी थी. बीजेपी ने सोशल मीडिया पर गलत प्रचार प्रसार कर देश और जनपद की जनता को गुमराह कर ये सीटे हासिल कर ली थी.

आज जनता इनकी गलत निति की वजह से परेशान है मंहगाई ने कमर तोड़ कर रख दी है. पेट्रोल, डीजल, कूकिंग गैस के दाम आसमान छू रहे हैं, रूपया लगातार कमजोर हो रहा है. देश की विकास दर घट रही है, चारो तरफ त्राहिमाम है. समाजवादी पार्टी आने वाले लोकसभा चुनाव में कन्नौज ही नहीं पूरे उत्तर प्रदेश से इनको बाहर का रास्ता दिखाने का काम करेगी. जो लोग बीजेपी का साथ देंगे जनता उनको भी छोड़ने वाली नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *