पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में कल भारत बंद, सोनिया कर सकती हैं अगुवाई

नई दिल्ली। पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के विरोध में कांग्रेस ने कल भारत बंद का आह्वान किया है. खबर है कि इस बार भारत बंद की अगुवाई यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी करेंगी. कांग्रेस का दावा है कि उन्हें 21 दलों का समर्थन है. कांग्रेस का कहना है कि बंद के दौरान किसी भी प्रकार की हिंसा नहीं होगी. बंद का समर्थन करने वाले दलों में सपा, बसपा, डीएमके समेत 21 दल हैं. कर्नाटक सरकार ने बंद के चलते कल सभी शिक्षण संस्थानों में छुट्टी का ऐलान कर दिया है. सरकारी दफ्तरों में भी छुट्टी रहेगी.

कांग्रेस कल सुबह 8 बजे राजघाट पर धरना देगी. इस दौरान प्रदर्शन में सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के भी शामिल होने की संभावना है. भारत बंद से कई चीजों को बाहर रखा गया है. इसमें दवा की दुकान अस्पताल और एंबुलेंस को राहत दी गई है, ताकि मरीजों और तीमारदारों को किसी तरह की समस्या न हो.

कांग्रेस की मांग- GST में लाएं पेट्रोल-डीजल

मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए आज कांग्रेस नेता अजय माकन ने कहा कि चार साल में पेट्रोल पर 211.7% और  डीजल पर 443% एक्साइज ड्यूटी बढ़ी है. मई 2014 में पेट्रोल पर 9.2 रुपये एक्साइज लगता था और अब 19.48 रुपये लगता है. वहीं मई 2014 में डीजल पर 3.46 रुपये एक्साइज था, जबकि अब 15.33 रुपये लगता है. सरकार से मांग है कि पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में लाए. ऐसा हुआ तो कीमतें 15-18 रुपये तक कम होंगी. इससे बाकी चीजों की मंहगाई भी कम होगी. सरकार ने पिछले चार साल में एक्साइज ड्यूटी से 11 लाख करोड़ रुपए कमाए हैं. कांग्रेस की मांग है कि पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के तहत लाया जाए जिससे तेल के दामों में 15 से 18 रूपये तक गिर सकते हैं.

शिवसेना ने किया किनारा

बीजेपी की सहयोगी शिवसेना भी महंगाई के मुद्दे पर सरकार को घेर रही है. हालांकि शिवसेना ने बंद से खुद को अलग किया है. शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि जब महंगाई काबू से बाहर होती है वो हमेशा सड़कों पर उतरते हैं. इस भारत बंद के बहाने विपक्ष की ताकत का भी एहसास हो जाएगा.

CTI ने भी बंद का किया विरोध

चैम्बर ऑफ ट्रेड इंडस्ट्री (CTI ) ने कहा कि वो  पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी के पूरी तरह खिलाफ है और विपक्ष के इस मुद्दे का समर्थन करता है. लेकिन दुकानें बंद करने के समर्थन में नहीं है, क्योंकि त्यौहार का सीजन है और व्यापारी पहले ही मंदी की मार झेल रहा है.

राज ठाकरे सक्रिय भागीदारी

राज ठाकरे की मनसे ने रविवार को कहा कि वह बंद में हिस्सा लेगी. ठाकरे ने एक बयान में कहा कि मनसे केवल बंद में हिस्सा ही नहीं लेगी, बल्कि सक्रिय भागीदारी भी करेगी.

सीपीआई नेता अतुल अंजान ने तेल के बढ़ते दामों के बहाने मोदी सरकार पर बड़े सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि देश की विदेश नीति फेल है. प्रधानमंत्री के सारे दावे झूठे निकल रहे हैं.

कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने भी तेल की कीमतों को लेकर मोदी सरकार पर करारा हमला किया, पुनिया ने बताया कि यूपीए सरकार में क्रूड ऑयल की कीमतें क्या थीं, और उस वक्त देश में पेट्रोल डीजल की कीमतें क्या थीं और मोदी सरकार में क्रूड ऑयल की कीमतें क्या हैं, और पेट्रोल डीजल देश में कितने में बिक रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *