पुलवामा हमला: हटाए जा सकते हैं जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए आतंकवादी हमलों पर चर्चा करने के लिए शुक्रवार सुबह सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीएस) की बैठक हुई. बैठक में पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई समेत कई मसलों पर चर्चा की गई. सूत्रों के मुताबिक, इस दौरान राज्यपाल बदलने को लेकर भी बातचीत हुई.

सूत्रों ने बताया कि सीसीएस की बैठक में राज्यपाल सत्यपाल मलिक को हटाकर किसी पूर्व आर्मी अफसर को राज्यपाल बनाकर भेजने पर विचार किया गया. साथ ही करतारपुर कॉरिडोर पर बातचीत रोकने पर विचार किया गया. दोनों ही मसलों पर अभी अंतिम फैसला नहीं हुआ है.

सत्यपाल मलिक को 21 अगस्त 2018 को जम्मू-कश्मीर का राज्यपाल नियुक्त किया गया था. इस दौरान उन्होंने कई ऐसे बयान दिये जिससे केंद्र सरकार की किरकिरी हुई. पिछले साल नवंबर में विधानसभा भंग किये जाने के बाद कहा था कि नई दिल्ली (केंद्र सरकार) पीपुल्स कांफ्रेंस के नेता सज्जाद लोन को जम्मू एवं कश्मीर के मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहती थी. मुझे तबादले का डर है.

करतारपुर कॉरिडोर
केंद्रीय कैबिनेट ने पिछले साल 22 नवंबर को भारतीय हिस्से में गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक से सीमा तक करतारपुर गलियारे के निर्माण को मंजूरी दी थी, जिसके कुछ दिनों बाद इसका उद्घाटन किया गया. पाकिस्तान अपने हिस्से में करतारपुर गलियारे का उद्घाटन कर चुका है. जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में कल जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों की बस को टक्कर मार दी थी. जिसमें कम से कम 37 जवान शहीद हो गए थे.