IAF पायलट की सुरक्षा पर मोदी सरकार सतर्क, पाक को दी कड़ी चेतावनी, कहा-खरोंच लगने पर भी खामियाजा भुगतोगे

नई दिल्ली। पाकिस्तान ने बुधवार को पहले भारतीय वायुसीमा में घुसने की कोशिश की और जब भारतीय वायुसेना ने खदेड़ा और हमला किया तो हमारा एक पायलट हादसे का शिकार होकर पाकिस्तान के कब्जे में पहुंच गया। इस मामले में पाकिस्तान को भारत के विदेश मंत्रालय ने जमकर फटकार लगाई है। पाकिस्तान के डिप्टी हाई कमिश्नर सैयद हैदर को साफ कह दिया है कि भारतीय पायलट फौरन सुरक्षित चाहिए वरना खामियाजा भुगतना होगा। भारत ने पुलवामा हमले पर सबूत मांग रहे पाकिस्तान को हमले के ब्योरे वाला डोजियर भी सौंप दिया है।

विदेश मंत्रालय के बयान से साफ हो गया कि पाकिस्तान ने जैसी जुर्रत दिखाई उसका जवाब भी उसी अंदाज में दिया गया। भारत की धरती पर हमला करने की नापाक हेकड़ी दो-तीन मिनट में ही निकल गई। पाकिस्तान का F-16 फाइटर प्लेन ढेर हो गया। हालांकि हमारा एक पायलट पाकिस्तान के कब्जे में है। पायलट की सुरक्षा को लेकर पूरे देश में चिंता है और सरकार भी पायलट की सेफ्टी को लेकर सतर्क है।

बुधवार शाम दिल्ली में पाकिस्तान के डिप्टी हाई कमिश्नर सैयद हैदर को विदेश मंत्रालय ने समन किया। सरकार ने साफ और कड़े शब्दों में समझा दिया कि अगर हिन्दुस्तानी पायलट के साथ किसी तरह की ज्यादती की गई तो पाकिस्तान को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। सरकार ने पाकिस्तान को साफ मैसेज दिया कि पाकिस्तानी एयर फोर्स ने भारतीय वायु सीमा का उल्लंघन करने की कोशिश की। वो सीधे सीधे युद्ध की शुरूआत करने जैसा है।

भारत की सख्ती का असर हुआ। पाकिस्तान औपचारिक तौर पर भारत को जानकारी दी कि हिन्दुस्तानी पालयट उसके कब्जे में है। इस्लामाबाद में पाकिस्तान की सरकार ने इंडिया के हाई कमिश्नर को बताया कि हिन्दुस्तानी पायलट पाकिस्तानी फौज के पास है। ये भी बताया कि हिन्दुस्तानी पायलट पूरी तरह से सुरक्षित और स्वस्थ हैं।

भारत ने साफ कहा कि हिन्दुस्तानी पायलट किसी फौजी मिशन पर नहीं था। उसने जानबूझकर सरहद पार नहीं की है। चूंकि प्लेन क्रैश हो गया और अनियन्त्रित होकर पाकिस्तान के कब्जे वाले इलाके में गिरा इसलिए पाकिस्तान को हिन्दुस्तान के पायलट को फौरन वापस भेजना चाहिए।