राफेल डील पर तहसीन पूनावाला की याचिका से कांग्रेस ने झाड़ा पल्ला, कहा- पार्टी का कोई संबंध नहीं

नई दिल्ली। राफेल डील पर तहसीन पूनावाला की सुप्रीम कोर्ट में याचिका से कांग्रेस ने पल्ला झाड़ा लिया है.कांग्रेस लीगल डिपार्टमेंट के सुप्रीम कोर्ट यूनिट के चेयरमैन और वरिष्ठ वकील अनूप जाॅर्ज चौधरी ने प्रेस नोट जारी कर कहा है कि इस याचिका से कांग्रेस का कोई संबंध नहीं है.ज़ी मीडिया से ख़ास बातचीत में अनूप जाॅर्ज चौधरी ने कहा कि पार्टी नहीं समझती है कि ये मसला उठाने के लिए सुप्रीम कोर्ट उचित फोरम है और पार्टी का ना तो तहसीन पूनावाला से कोई संबंध और ना ही उनकी याचिका से.

चौधरी ने कहा कि मीडिया में ऐसी भ्रम की स्थिति रहती है कि तहसीन पूनावाला कांग्रेस का प्रतिनिधित्व कर रही है ऐसे में हम यहां साफ करना चाहते हैं कि राफेल डील के खिलाफ तहसीन पूनावाला की याचिका और उनसे पार्टी का कोई संबंध नहीं है.

दरअसल, तहसीन पूनावाला ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर मांग की है कि सुप्रीम कोर्ट रक्षा मंत्रालय को निर्देश दे कि वे 36 राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद में आने वाली कुल लागत का खुलासा करें.याचिका में केंद्र सरकार को यह बताने का निर्देश दिए जाने की मांग की गई है कि क्यों 23 सितंबर 2016 को फ्रांस के साथ इन लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए करार पर दस्तखत करने से पहले रक्षा खरीद प्रक्रिया ( डीपीपी) के तहत इस बाबत मंत्रिमंडल की मंजूरी नहीं ली गई.

राफेल डील मामले में लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सीधे प्रधानमंत्री पर गंभीर आरोप लगाए थे. डील की गोपनीयता संबंधी शर्त पर फ्रांस की पुष्टि के बाद खुद पीएम ने राहुल पर पलटवार किया था.इसके बाद भाजपा के चार सांसदों ने राहुल के खिलाफ इस मामले में सदन को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया था.वहीं दूसरी ओर कांग्रेस ने इस मामले में अपने रुख में नरमी नहीं लाने का संकेत देते हुए कहा था कि सौदे की गोपनीयता का इस सौदे के तहत खरीदे जाने वाले विमान की कीमत को छिपाना शामिल नहीं था.