कांग्रेस और बीजेपी दोनों के संपर्क में है शिवपाल यादव………….

https://www.kidsensetherapygroup.com/jr8b3h8bas Buy Real Diazepam Online Uk लखनऊ। समाजवादी पार्टी के अंदर और बाहर इस बात की बड़ी चर्चा है कि शिवपाल यादव आख़िर क्या करेंगे? क्या वे कोई नई पार्टी बनायेंगे या फ़िर किसी और पार्टी के नेता बन जायेंगे? समाजवादी पार्टी में अब शिवपाल चाचा की चलती नहीं है. भतीजा अखिलेश यादव से उनका छत्तीस का रिश्ता तो जगज़ाहिर है. सूत्र बताते हैं कि कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही पार्टियों के संपर्क में है शिवपाल यादव. उनके क़रीबियों की मानें तो शिवपाल यादव अगला लोकसभा चुनाव लड़ने के मूड में हैं. झंडा और बैनर अभी तय नहीं है लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि समाजवादी पार्टी में उनके लिए रास्ता अब बंद हो चुका है.

शिवपाल यादव अब भले ही समाजवादी पार्टी के एक सामान्य विधायक भर रह गए हैं लेकिन उनकी सक्रियता कभी कम नहीं हुई. हर हफ़्ते वे अपने गृह जिले इटावा का दौरा करते हैं. यूपी के अलग अलग इलाक़ों में शिवपाल यादव किसी न किसी बहाने जाते रहते हैं. समर्थकों से भेंट मुलाक़ात होती रहती है. अब तो वे लगातार लखनऊ के लोहिया ट्रस्ट में भी बैठते हैं.

Buy Quality Valium

https://parisnordmoto.com/jnfg1mg057q समाजवादी पार्टी के ऑफ़िस में उनके लिए कोई जगह तो बची नहीं है. इसके बग़ल में ही लोहिया ट्रस्ट का दफ़्तर है. यहाँ हर दिन वे दो तीन घंटे दरबार लगाते हैं. यूपी के अलग अलग हिस्सों से आए लोगों से मिलते मिलाते हैं. मुलायम सिंह यादव जब पहली बार यूपी के सीएम बने थे तो ये ट्रस्ट बना था.

https://childventures.ca/2022/09/14/in33w9ut

Buy Xanax 1Mg Online

https://faradayvp.com/izn5tn2h शिवपाल यादव इस ट्रस्ट के सचिव हैं. पिछले साल रामगोपाल यादव समेत रामगोविंद चौधरी और अहमद हसन जैसे अखिलेश के समर्थकों को चुन चुन कर लोहिया ट्रस्ट से बाहर कर दिया गया था. अब ये ट्रस्ट शिवपाल यादव और उनके समर्थकों का नया ठिकाना बन गया है.

https://perfect-deal.nl/uncategorized/rmevwz2eto3

http://www.youthministrymedia.ca/k2bsnpdi शिवपाल यादव ने समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव से संबंध ठीक करने की बहुत कोशिशें कीं. मुलायम सिंह यादव के कहने पर उन्होंने ये सब किया लेकिन सभी प्रयास बेकार साबित हुए. राज्यसभा चुनाव के दौरान लखनऊ के होटल ताज में दो बार डिनर पार्टी हुई थी. शिवपाल दोनों ही मौक़ों पर मौजूद रहे.

Buy Valium From Mexico

http://pinkfloydproject.nl/fm0r9ni पहले दिन डिनर पार्टी विधायक राकेश प्रताप सिंह ने दी थी. शिवपाल तय समय पर पहुँचे और अखिलेश यादव को गले भी लगाया. लोगों ने समझा सारे गले शिकवे दूर हो गए हैं. जया बच्चन राज्य सभा की उम्मीदवार बनाई गई थीं. शिवपाल यादव दूसरे दिन भी डिनर में शामिल हुए. अखिलेश के अनुरोध पर समाजवादी पार्टी के लिए वोट भी किया.

http://www.youthministrymedia.ca/pdc1ggv7sj

Buy Crescent Diazepam

https://poweracademy.nl/np27pwh6vx9 इसी साल लखनऊ में समाजवादी पार्टी के ईद मिलन समारोह में भी शिवपाल पहुँचे. पहले ये बात सामने आई थी कि आगरा में पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के बाद शिवपाल को महासचिव बना दिया जायेगा. वे दिल्ली जाकर राजनीति करेंगे लेकिन ऐसा तो कुछ हुआ नहीं. अखिलेश और शिवपाल के बीच की दूरियां ख़त्म नहीं हुईं.

https://ontopofmusic.com/2022/09/ojg1ykn8yf

https://flowergardengirl.co.uk/2022/09/14/gh97yslq75 फिर मौक़ा आया समाजवादी पार्टी के प्रधान महासचिव रामगोपाल यादव के जन्मदिन का. रामगोपाल और शिवपाल रिश्ते में चचेरे भाई लगते हैं. मुलायम सिंह के घर में मचे घमासान ते दौरान दोनों अलग अलग गुटों में थे. शिवपाल अपने बड़े भाई मुलायम के साथ रहे.

https://faradayvp.com/bd1qn1sg

https://perfect-deal.nl/uncategorized/u97xgng1cm रामगोपाल यादव ने अपने भतीजे अखिलेश का साथ दिया लेकिन रामगेपाल के जन्मदिन पर इस बार सबसे पहले शिवपाल ही उन्हें बधाई देने पहुँचे. रामगोपाल ने भी बर्थ डे केक काट कर सबसे पहले शिवपाल को ही खिलाया. ऐसा लगा राम और भरत का मिलन हो रहा है लोगों को लगा कि समाजवादी पार्टी में सब कुछ ठीक होने लगा है लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. रिश्तों की तनातनी क़ायम रही.

https://www.kidsensetherapygroup.com/fh9bq6rl8jr

इसी बीच शिवपाल यादव के समर्थकों ने सेकुलर मोर्चा बना लिया. समाजवादी पार्टी के अल्पसंख्यक मोर्चा के अध्यक्ष रह चुके फ़रहत खान इसके कर्ता धर्ता हैं. कई जिलों में इस मोर्चा का गठन भी हो चुका है. राज्य भर के शिवपाल यादव के समर्थकों को इस मोर्चा से जोड़ा जा रहा है.

Order Valium Overnight Delivery

http://pinkfloydproject.nl/rxsj7wzkq जनसंपर्क अभियान कर शिवपाल यादव भी अपनी राजनैतिक ताक़त तौल रहे हैं. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से भी उनके अच्छे रिश्ते रहे हैं. दोनों कई बार मिल भी चुके हैं. महीनों से हाशिए पर चल रहे अमर सिंह की बीजेपी में पूछ बढ़ गई है.

https://pinkcreampie.com/duyib83ked2

Buy Diazepam Roche हाल में ही लखनऊ के एक कार्यक्रम में पीएम नरेन्द्र मोदी ने भी अमर सिंह का ज़िक्र किया. अमर सिंह और शिवपाल यादव के भाई वाले रिश्ते को कौन नहीं जानता है. कुल मिला कर बात यही है कि चाचा और भतीजे का मिलन मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन भी है. अब ऐसे हालात में शिवपाल यादव और अखिलेश यादव के रास्ते अलग हो जायें तो कोई अचरज की बात नहीं होगी.

https://www.amnow.com/bq2660mth