रेवाड़ी गैंगरेप: पुलिस ने 3 अन्य को किया गिरफ्तार, तीनों ने वारदात में की थी दुष्कर्मियों की मदद

रेवाड़ी।  12 सितंबर (बुधवार) को रेवाड़ी के कोसली उपमंडल के एक गांव की छात्रा के साथ उसी के गांव के 3 लड़कों सहित लगभग 1 दर्जन लड़कों द्वारा किए गए गैंगरेप के 4 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं. हालांकि पुलिस ने गांव के ही 3 युवक जिनमें एक फौजी भी शामिल है. उनके फोटो जारी किए हैं और आरोपियों का सुराग देने अथवा उन्हें पकड़वाने वाले के लिए 1 लाख का भी इनाम घोषित किया है. इसके बावजूद अभी तक कोई भी गिरफ्तारी नहीं हो पाई है. पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए शनिवार शाम को आरोपियों के अलावा 3 लोगों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार किए गए तीनों व्यक्तियों पर दुष्कर्मियों की मदद करने का शक तो है ही साथ ही साथ पुलिस का मानना है कि गिरफ्तार लोग अपराध में भी संलिप्त हो सकते हैं.

पुलिस ने तीन लोगों को किया गिरफ्तार
आपको बता दें कि पुलिस ने जिन तीन लोगों को गिरफ्तार किया है उनमें से एक तो वह व्यक्ति है जो उस ट्यूबवेल का मालिक है जहां इन दरिंदो ने उस छात्रा के साथ गैंगरेप किया था. दूसरा वह नीम-हकीम डॉक्टर है जिसे रेप के बाद छात्रा की स्थिति बिगड़ने पर आरोपी उपचार कराने के लिए लाए थे. और तीसरा गिरफ्तार किया गया व्यक्ति एक आरोपी का मामा है जिसने उनकी भागने में मदद की थी. हालांकि पुलिस अभी तक किसी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर पाई है. लेकिन, पुलिस का मानना है कि आरोपी बहुत जल्द काबू में आ जाएंगे.

अस्पताल ने जारी किया मेडिकल बुलेटिन
वहीं दूसरी ओर अस्पताल द्वारा इस गैंगरेप की पीड़िता लड़की का मेडिकल बुलेटिन जारी किया है. मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक पीड़िता फिलहाल स्टेबल है, नॉर्मल होने में अभी वक्त लगेगा. मेडिकल बुलेटिन जारी करते हुए डॉक्टर बोले, “सदमे में जरूर है, लेकिन खतरे से बाहर है पीड़िता. डिप्रेशन में जाने के डर से परिजनों को मिलने से रोका जा रहा है. इस दौरान डॉक्टरों ने पीड़िता को उचित इलाज न मिलने के आरोप को गलत बताया. गौरतलब है कि पीड़िता की मां ने उचित इलाज न दिए जाने का आरोप लगाया था.

हमें पैसा नहीं न्याय चाहिए
रेवाड़ी गैंगरेप पीड़िता की मां ने मीडिया के सामने अपना दुख और गुस्सा व्यक्त करते हुए कहा, “कल कुछ अधिकारी मुझे मुआवजे का चेक देने आए थे. मैं आज इसे लौटा रही हूं क्योंकि हमें पैसा नहीं न्याय चाहिए. अब तो पांच दिन बीत चुके हैं लेकिन अभी तक कोई भी आरोपी गिरफ्तार नहीं किया गया है. सरकार मेरी बेटी की आबरू की कीमत लगा रही है.” इस दौरान वे अपनी बेटी की तबीयत को लेकर चिंतित नजर आईं. उन्होंने कहा, “बेटी को उचित इलाज तक नहीं मिल रहा. डिप्रेशन में जाने की बात कहकर बेटी से मिलने भी नही दे रहे डॉक्टर. मेरी बेटी को बूचड़खाने में लाकर पटक दिया.”

मुझे 2 करोड़ भी नहीं चाहिए
उन्होंने आगे कहा, “मुझे इंसाफ चाहिए चेक का क्या करेंगे, उनको अरेस्ट करो और मुझे इंसाफ दो. दरिंदे हाथ नहीं आए हैं. ये पांचवां दिन है. मुझे न्याय चाहिए. ये 2 लाख है मुझे 2 करोड़ भी नहीं चाहिए. मुझे इंसाफ चाहिए. ये चेक जिसने भी दिया है मैं हाथ जोड़कर वापस करना चाह रही हूं. मेरा प्रशासन से अनुरोध है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *