मणिशंकर अय्यर का निलंबन वापस, पीएम मोदी पर टिप्पणी के चलते किया गया था सस्पेंड

नई दिल्ली। विवादित बयान देकर अक्सर कांग्रेस को मुश्किल में डालने वाले नेता मणिशंकर अय्यर का पार्टी ने निलंबन वापस ले लिया है. गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के चलते उन्हें पार्टी की प्राथमिक सदस्यत से निलंबित कर दिया गया था. हालांकि पार्टी से निलंबित होने के बाद भी उनके विवादित बयानों का सिलसिला नहीं थमा. अय्यर काफी समय से पार्टी में वापसी के लिए हाथ पांव मार रहे थे.

कांग्रेस के संगठन महासचिव अशोक गहलोत की ओर से जारी बयान के मुताबिक पार्टी की केंद्रीय अनुशासन समिति की अनुशंसा पर राहुल गांधी ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से अय्यर का निलंबन तत्काल प्रभाव से रद्द करने को मंजूरी प्रदान की.

 

 

मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2002 के गुजरात दंगों को लेकर दिए गए बयान पर टिप्पणी करते हुए कहा था, “मैंने नहीं सोचा था कि 2014 से एक सीएम जो मुसलमानों को पिल्ला समझता है, वह पीएम बनेगा. जब उनसे पूछा गया कि आपको उस घटना का दुख है तो उन्होंने कहा था कि एक पिल्ला भी गाड़ी के नीचे आ जाए तो दिल में चोट लगती है.”

अय्यर यहीं नहीं रुके. उन्होंने आगे कहा, “मैंने सोचा कि जिस आदमी ने ऐसा कहा, जो दंगों के 24 दिन तक मुस्लिमों के कैंप में नहीं गया. अहमदाबाद मस्जिद उस दिन पहुंचा जब पीएम वाजपेयी आए. उस दिन जाना मजबूरी थी. मैंने सोचा ही नहीं था कि ऐसा व्यक्ति देश का प्रधानमंत्री बन सकता है.”

पीएम मोदी पर अय्यर के बिगड़े बोल
1. 2017 में अय्यर ने कहा था- ‘कश्‍मीरी युवक हथियार उठाकर गलत नहीं करते, बीजेपी के लोग उन्हें मजबूर करते हैं.’
2. 2015 में भारत-पाक रिश्‍तों पर अय्यर ने कहा था- ‘भारत और पाकिस्तान के रिश्तों को मजबूत करने के लिए मोदी को हटाना होगा, नहीं तो वार्ता आगे नहीं बढ़ेगी.’
3. 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान मणिशंकर अय्यर ने कहा था, ‘मैं आपसे वादा करता हूं कि 21वीं सदी में नरेंद्र मोदी इस देश के प्रधानमंत्री कभी नहीं बन पाएंगे.’
4. 2013 में बीजेपी की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पीएम मोदी ने कांग्रेस को ‘दीमक’ कहकर बुलाया था.
5. 2013 में अय्यर ने पीएम मोदी को ‘जोकर’ बताया था.