सऊदी कॉन्सुलेट में जाकर लापता हो गया पत्रकार, बाहर इंतजार ही करती रही मंगेतर

वाशिंगटन। सऊदी सरकार के आलोचक के तौर पर मशहूर सऊदी अरब के एक पत्रकार इस्तांबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास में जाने के बाद लापता हो गए. वाशिंगटन पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक उनकी मंगेतर ने बताया कि जमाल खाशुकजी को अपराह्न सऊदी वाणिज्य दूतावास में प्रवेश करने के बाद से नहीं देखा गया है. वह खाशुकजी के साथ थीं और वाणिज्य दूतावास के बंद होने तक उनका इंतजार करती रहीं.

एक वक्त सऊदी सरकार के सलाहकार रह चुके खाशुकजी संभावित गिरफ्तारी से बचने के लिए पिछले साल अमेरिका चले आए थे और यहां आत्मनिर्वासित जीवन बिता रहे थे. वह सऊदी शाहजादे मोहम्मद बिन सलमान की कुछ नीतियों और यमन में युद्ध में सऊदी अरब की शिरकत की आलोचना करते रहे हैं. पोस्ट के अंतरराष्ट्रीय मामलों के संपादक एली लोपेज ने एक बयान में कहा, ‘हम आज जमाल तक पहुंचने में असमर्थ हैं और इसको लेकर बहुत चिंतित हैं कि वह इस वक्त कहां होंगे.’

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने इस घटना पर कहा, ‘हमलोग स्थिति पर करीब से निगाह रख रहे हैं. इस घटना से संबंधित ज्यादा जानकारी हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं. यह अनुचित और अपमानजनक होगा अगर किसी को पत्रकार और समीक्षक के तौर पर काम करने के सिलसिले में हिरासत में लिया जाता है.’

सऊदी अरब कॉन्सुलेट के अधिकारियों ने रॉयटर्स से बातचीत में कहा, ये पूरी तरह से गलत है कि जमाल यहां आकर गायब हो गए. अधिकारियों के मुताबिक जमाल यहां पर अपने कुछ सरकारी काम के उद्देश्य से आए थे. ये काम उनके वैवाहिक स्थिति को लेकर था. काम खत्म कर वह यहां से थोड़ी देर बाद चले गए थे.  जमाल की मंगेतर का दावा है कि कॉन्सुलेट के अधिकारी उनके बारे में कोई भी बयान नहीं दे रहे हैं. अगर आशंकाएं सही हैं तो वह कहां हैं. अगर वह बिल्डिंग से बाहर गए तो कहां गए. ये कहना कि वह यहां से गायब नहीं हुए हैं तो पूरी तरह से गलत है.