विभिन्न आनलाइन मीडिया पोर्टलों के अनुसार एमजे अकबर ने दिया इस्तीफा!

14 महिला पत्रकारों ने एमजे अकबर पर लगाया है यौन उत्पीड़न का आरोप 

नई दिल्ली। विभिन्न आनलाइन मीडिया पोर्टल बता रहे हैं कि एमजे अकबर का इस्तीफा हो चुका है. इन जनाब पर चौदह महिला पत्रकार ने मीटू लिखकर यौन शोषण का आरोप लगाया. ये सब घटनाएं तबकी हैं जब एमजे अकबर प्रधान संपादक हुआ करते थे. इन दिनों वह मोदी राज में विदेश राज्य मंत्री हैं. पता चला है कि आज वे भारत लौटे हैं और आते ही इस्तीफा दे दिया. हालांकि वह भारत आकर यह भी बोले कि वह आरोपों पर अपना पक्ष पेश करेंगे.

अकबर के इस्तीफे को लेकर सोशल मीडिया पर चर्चित लेखक समर अनार्या लिखते हैं : ”People will remember that self designated 56 inch could not even dump M J Akbar- accused by sexual harassment by more than almost a dozen women and waited for his resignation! लोग याद रखेंगे कि स्वयंभू 56 इंच असल में 56 मिलीमीटर का सीना भी नहीं रखता था कि दर्जन भर स्त्रियों के आरोपों के बावजूद एमजे अकबर को बर्खास्त कर सके- बस उसके इस्तीफ़े के इंतज़ार भर की हैसियत थी उसकी!”

#MeToo मूवमेंट में कई महिलाओं की तरफ से सेक्शुअल हैरसमेंट के आरोपों का सामना कर रहे केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर मोदी सरकार से हटाए जाने को लेकर पता चला है कि पीएमओ में एक उच्च स्तरीय बैठक हुई है. इसमें अकबर से इस्तीफा लेने की बात तय हुई. इस बीच यह भी खबर आई थी कि रविवार को नाइजीरिया से लौटने के बाद एमजे अकबर ने ईमेल से इस्तीफा भेज दिया।

वहीं यह भी बताया जा रहा है कि अकबर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात कर उन्हें इस पूरे मुद्दे पर सफाई दे सकते हैं। अकबर पर पद छोड़ने का भारी दबाव बना हुआ है। इस बीच रविवार सुबह भारत लौटने के बाद दिल्ली में एयरपोर्ट पर पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए विदेश राज्य मंत्री अकबर सवालों से बचकर निकल गए थे। उन्होंने कि वह इस बारे में बाद में एक बयान जारी करेंगे।

बीजेपी इस मुद्दे पर जहां अब तक चुप्पी साध रखी है। इस मामले में अंतिम फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। बीजेपी ने संकेत दिया था कि स्वदेश लौटने के बाद अकबर द्वारा इस विषय पर अपनी स्थिति स्पष्ट करने के उपरांत पार्टी उन पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर कोई स्पष्ट रूख अपनाएगी।