पश्चिम बंगाल: सीएम ममता बनर्जी ने नहीं दी राज्य में CAG ऑडिट करने की इजाजत

https://pinkcreampie.com/zryfgz7e https://perfect-deal.nl/uncategorized/25oc8g5e कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य में सीएजी को ऑडिट करने की इजाजत नहीं दी है. पूरे देश के आर्थिक खर्च का हिसाब किताब करने वाले कंट्रोलर एंड ऑडिटर जनरल ऑफ इंडिया यानी कैग या सीएजी को पश्चिम बंगाल सरकार ने राज्य की कानून व्यवस्था से जुड़े खर्च और अन्य चीजों का ऑडिट करने से रोक दिया है.

http://mgmaxilofacial.com/knp676v https://parisnordmoto.com/hp5gkbq सीएजी ने पश्चिम बंगाल के गृह सचिव को लिखा था पत्र

https://parisnordmoto.com/9dx0kt66

https://flowergardengirl.co.uk/2022/09/14/9edzpkc3f1 सीएजी की एकाउटेंट जनरल नमिता प्रसाद ने पश्चिम बंगाल के गृह सचिव अत्रि भट्टाचार्य को खत लिखकर जानकारी दी थी कि सीएजी पश्चिम बंगाल की ‘पब्लिक आर्डर’ का ऑडिट करना चाहता है. इसके तहत कानून व्यवस्था, अपराध नियंत्रण, राज्य में हथियारों के लाइसेंस, कानून व्यवस्था से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर आदि का ब्यौरा लेकर उसका ऑडिट किया जाएगा.

मतलब राज्य सरकार ने इसके लिए कितनी धनराशि ली, कितनी धनराशि आवंटित की है, कितना खर्च किया गया है और कहां-कहां किस-किस मद में किस तरह से धनराशि का इस्तेमाल किया गया है, इन सब का हिसाब सीएजी करेगा.

https://www.radioculturasd.com.br/acwjqeg Soma 350 Mg Street Price ऑडिट करने के पीछे कैम ने दिए ये तर्क

http://pinkfloydproject.nl/r9fj0trrx6u

पहले तो गृह विभाग ने इस प्रस्ताव को नकार दिया लेकिन कैग ने दोबारा प्रस्ताव भेजा है तो मामला और उलझ गया है. सीएजी ने कहा है कि राजस्थान, केरल, असम और मणिपुर में पब्लिक ऑर्डर से संबंधित ऑडिट किया जा रहा है. पश्चिम बंगाल सरकार संविधान के दायरे से बाहर नहीं हैं. पश्चिम बंगाल की ढाई हजार किलोमीटर की सीमा अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर पर लगी है. ऐसे में यहां कानून व्यवस्था का पालन किस हिसाब से किया जा रहा है इसकी जांच बेहद जरूरी है.

https://faradayvp.com/cwzbn30bww

https://childventures.ca/2022/09/14/9asgyfd9yp राज्य सरकार का तर्क है कि कानून व्यवस्था संबंधी गोपनीय और संवेदनशील विषय को कैग से साझा करना ठीक नहीं है. वहीं, कैग का कहना है कि वो देश के परमाणु कार्यक्रमों से लेकर सेना के जहाजों की खरीद-बिक्री संबंधी बड़े मामलों का भी ऑडिट करता है तो क्या पश्चिम बंगाल सरकार की कानून व्यवस्था उससे भी ऊंची चीज है?

https://www.kidsensetherapygroup.com/7bl2a5to22 क्या ममता बनर्जी को किसी खुलासे का डर सता रहा है?

https://poweracademy.nl/gglp7vq गौरतलब है कि संविधान की धारा 148, 149, 150, 151 के तहत हर तरह की सरकारी संस्थाओं के खर्च का ऑडिट सीएजी कर सकता है. लेकिन सवाल यह नहीं है कि कैग क्या कर सकता है-क्या नहीं. सवाल यह है कि क्या ममता बनर्जी को कैग के जरिए होने वाले खुलासे का डर सता रहा है या ममता बनर्जी को लगता है कि संवैधानिक संस्थाएं भी उनके काम में बाधा डाल रही हैं.