सावधान ऑस्ट्रेलिया! विराट कोहली ने छोड़ दी है बिजनेस क्लास की सीट: माइकल वॉन

 भारत ने ऑस्ट्रेलिया को एडिलेड में पहले टेस्ट मैच में 31 रनों से मात दे दी है. 4 मैचों की सीरीज का पहला टेस्ट जीतने के बाद आत्मविश्वास से भरी टीम इंडिया अब पर्थ पहुंच चुकी है. 14 दिसंबर से पर्थ में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच दूसरा टेस्ट मैच खेला जाना है. पर्थ टेस्ट से पहले इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने ऑस्ट्रेलिया को चेतावनी दे दी है.

दरअसल, इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन का कहना है कि वह इस बात के गवाह हैं विराट कोहली और उनकी पत्नी अनुष्का शर्मा ने अपनी बिजनेस क्लास सीट एडिलेड से पर्थ जाने के लिए इंडियन पेसर को दी थी. अनुष्का शर्मा हाल ही में शादी की पहली सालगिरह मनाने के लिए ऑस्ट्रेलिया पहुंची हैं. 11 दिसंबर को उनकी पहली सालगिरह है. आज ही के दिन उन्होंने इटली में पिछले साल शादी की थी.

सोमवार (10 दिसंबर) को भारत ने एडिलेड में ऑस्ट्रेलिया को पहले टेस्ट में 31 रन से हराकर 1-0 की लीड ले ली है. माइकल वॉन भारत और ऑस्ट्रेलिया के मैच की कमेंट्री कर रहे हैं. उन्होंने एक ट्वीट कर ऑस्ट्रेलिया को चेतावनी दी है.

माइकल वॉन ने ट्वीट किया- विराट कोहली और अनुष्का ने अपनी फर्स्ट क्लास की सीट तेज गेंदबाज के लिए कुर्बान कर दी थी ताकि दूसरे टेस्ट से पहले उन्हें कुछ आराम मिल सके.

बता दें कि पहले टेस्ट में ईशांत शर्मा, जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी ने 123.4 ओवर फेंके. इन तीनों के शानदार प्रदर्शन और रविचंद्रन अश्विन की गेंदबाजी के दम पर ही ही भारत यह जीत हासिल कर पाया. चेतेश्वर पुजारा की साहसिक पारी का भी इसमें योगदान रहा. भारतीय तेज गेंदबाजों का यह साल दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में शानदार रहा है. हालांकि, भारत कोई टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाया, लेकिन बुमराह और शमी के प्रयास सराहनीय रहे हैं.

2018 में जसप्रीत बुमराह ने 7 स्ट मैचों में 34 और मोहम्मद शमी ने 10 टेस्ट मैचों में 38 विकेट लिए हैं. एडिलेड टेस्ट के बाद पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने भी भारतीय पेसरों की जमकर तारीफ की. गावस्कर ने कहा, पिच से उन्हें कोई मदद नहीं मिल रही थी लेकिन फिर भी इनका प्रदर्शन लाजवाब रहा.

सुनील गावस्कर ने कहा, दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में पिच गेंदबाजों की मदद कर रही थी या वातावरण मददगार साबित हो रहा था, लेकिन यहां उनके लिए कुछ नहीं था. पांचवें दिन भी यह पिच बल्लेबाजों के अनुकूल थी. लेकिन भारतीय पेसरों ने लाइन और लेंथ पर गेंदें रखीं और ऑस्ट्रेलियन बल्लेबाजों को परेशान किया. गेंदबाजों ने उन्हें बांध कर रखा. यह भारत के लिए आसान जीत नहीं थी. कोच रवि शास्त्री ने जीत के बाद कहा कि वह खिलाड़ियों को पर्थ टेस्ट से पहले पूरी तरह रेस्ट देना चाहते हैं.